डेढ़ साल से विद्यालय बंद, एंड्रॉयड फोन नहीं होने से बच्चों का पठन-पाठन ठप्प

रामगोपाल जेना
चाईबासा: लॉकडाउन के कारण डेढ़ साल से विद्यालय बंद है। बच्चों के बीच पठन-पाठन गतिविधियां बाधित नहीं हो, इसके लिए शिक्षा विभाग ऑनलाइन क्लास लेने का आदेश जारी किया है। लेकिन सरकारी स्कूलों में अधिकतर बच्चों के पास एंड्रॉयड फोन नहीं होने से वे पूरी तरह पठन-पाठन से वंचित है।जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि पिछले सत्र में जिले के बहतर फीसदी बच्चे ऑनलाइन क्लास से जुड़े और इस बार सिर्फ सैंतालीस फीसदी बच्चे ही जुड़ पाए हैं।इस आंकड़े को सुधारने के लिए उन्होंने संकुल साधन सेवियों को शिक्षकों के साथ वर्चुअल मीटिंग कर अधिक से अधिक बच्चों को ऑनलाइन क्लास के लिए रणनीति तैयार करने का निर्देश दिया।
इसी कड़ी में शनिवार को मतकमहातु संकुल के शिक्षक शिक्षिकाओं के साथ सीआरपी द्वय निसात आलम और निरुप चंद ने जूम मीटिंग बुलाया। जिसमें शिक्षक शिक्षिकाओं को अधिक से अधिक बच्चों के साथ वाट्सएप ग्रुप बनाने का सुझाव दिया गया।साथ ही,ऑनलाइन क्लास के लिए गुगल मीट या जूम एप्प से जुड़ने के लिए बच्चों और अभिभावकों को प्रशिक्षण देने की बात कही गई। शिक्षकों को बताया गया कि प्रतिदिन ऑनलाइन क्लास से संबंधित रिपोर्ट राज्य शिक्षा विभाग को भेजना आवश्यक है।जूम मीटिंग में कृष्णा देवगम,तोयोन तोपनो, अनुराग वर्मा,रेणु बाला गुप्ता, विजय लक्ष्मी हेम्ब्रम, ललिता चातर, स्मिता बरवा,रीता विश्वकर्मा, सुशील कुमार सरदार आदि शिक्षक शिक्षिकाएं शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *