सीसीएल खुली खदान ओबी उत्पादन में लगे शांवल मशीन का असतर्कता के कारण स्क्रैप चैन तीन भागों में टूटा

बड़ा हादसा होते-होते टला, उत्पादन हुआ प्रभावित

सिरका:सीसीएल अरगड्डा क्षेत्र के परियोजना सिरका खुली खदान ओबी उठाव उत्पादन कार्य में लगे शांवल मशीन का बाया स्क्रैप चैन बीते रात सोमवार लगभग 2 बजे तीन भागों में टूट गया। जिससे एकाएक मशीन कंपन के साथ रुक गई। इससे बड़ा हादसा होते- होते टल गया। जानकारी के अनुसार बीते रात सोमवार को रात्रि पाली में सिरका खुली खदान के ओबी उत्पादन स्थल पर पुराने शांवेल मशीन के द्वारा हांलपैक डंफर में ओबी लोडिंग का कार्य किया जा रहा था। लेकिन कार्य करने के दौरान शांवेल मशीन के बांया चक्का चेन तीन भागों में तेज आवाज के साथ टूट गया। इससे तत्काल शांवल मशीन बंद कर दिया गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार और असतर्कता और लापरवाही के कारण यह घटना घटी। यदि तेज रफ्तार में लोडिंग का कार्य होता तो बड़ी घटना घट सकती थी। इस सबंध में झारखंड मजदूर यूनियन के केंद्रीय सचिव दिलीप भुईयां ने कहां कि सिरका खुली खदान में लगभग 40 वर्षों से भी पुराने जंग लगे सर्वे ऑफ शांवल मशीन एवं अन्य मशीनों से प्रबंधन लगातार खनन कार्य करता आ रहा हैं। कंपनी के मशीनों के रखरखाव में भी पूरी सावधानी नहीं बरती जाती हैं। इसके लिए प्रबंधन को सकारात्मक सोच के साथ नई मशीन को खनन कार्य में लगाना चाहिए। जिससे कोयला और ओबी उत्पादन का कार्य सुरक्षित ढंग से हो सकें। साथ ही खनन कार्य में लगे कामगारों को सुलभ तरीके से उत्पादन करने में मदद मिल सकें। वहीं स्थानीय सिरका प्रबंधन शांवल मशीन खराब होने के बाद एलएनटी मशीन से ही ओबी लोडिंग का कार्य कर रहा हैं। बताया जाता है कि एक माह पूर्व सिरका खुली खदान में वह भी लोडिंग करने के दौरान पुराने एलएनटी मशीन का भी लोडिंग दांत टूट कर गिर गया था। जिस से भी बड़ी दुर्घटना होते होते बच गई थी।