सरायकेला: जिले के दलभंगा ओपी क्षेत्र से 50 केन बम बरामद

— 03 सितंबर को भी बरामद किए गए थे चार से पांच किलोग्राम वाले 35 आईईडी बम

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट
सरायकेला: जिले के कुचाई थाना के दलभंगा ओपी अंतर्गत सुदुरवर्ती जंगली क्षेत्र में सुरक्षा बलों को नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है. सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य प्लांट किये गये 50 केन बम गुरुवार एवं शुक्रवार को बरामद किए गए हैं. पुलिस अधीक्षक आनन्द प्रकास से मिली जानकारी अनुसार नीमडीह-पांडुबुरू से कुदाहातू जाने वाले जंगली कच्चे पहाड़ी रास्ते में सीरिज में लगाए गए करीब 25 केन बम गुरुवार को बरामद किए गए. ये सभी बम तीन से पांच किग्रा के हैं. वहीं शुक्रवार को जारी अभियान के तहत रूगुडीह से डोडारदा जाने वाले जंगली कच्चे पहाड़ी रास्ते में सीरिज में लगाए गए करीब 25 अन्य केन बम बरामद किए गए, ये सभी बम 2 से 3 किग्रा के थे. उक्त सभी आईईडी बम सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने के इरादे से भाकपा माओवादी नक्सल संगठन के रमेश उर्फ अनल दा दस्ते द्वारा प्लांट किए गए थे. इन सभी आईडी बमों को सुरक्षा बलों ने नष्ट किया. इस अभियान का नेतृत्व अपर पुलिस अधीक्षक पुरुषोत्तम कुमार और सीआरपीएफ 21सी 157 बटालियान के नीरज सिंह राठौर ने किया. जिसमें जिला बल के अलावा सीआरपीएफ की एफ 157, ए 157 और झारखंड जगुआर की एजी 07, 25 के अलावा बीडीडीएस टीम 5 एववं सैट 39 के जवान शामिल थे. एसपी आनंद प्रकाश ने अभियान में शामिल टीम को पुरस्कृत करने के लिए अनुशंसा प्रस्ताव भेजने की घोषणा की है.
उल्लेखनीय है कि विगत तीन सितंबर को भी कुचाई थाना के दलभंगा ओपी अंतर्गत रूगुडीह से डोडारदा जाने वाले कच्चे रास्ते में सुरक्षाबलों को सीरिज में लगाए गए 35 केन बम मिले थे. सभी केन बम चार से पांच किग्रा के थे. जिला पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई में बम निरोधक दस्ते ने सभी केन बम को नष्ट किया था.

अभियान में ये थे शामिल

वरुण रजक, डीएसपी, झारखंड जगुआर
धनंजय कुमार, सहायक समादेष्टा, झारखंड जगुआर
प्रदीप कुमार, सहायक समादेष्टा, सीआरपीएफ
मनीष कुमार, सहायक समादेष्टा, सीआरपीएफ
पुअनि सतवीर सिंह, दलभंगा ओपी, पुअनि प्रकाश कुमार रजक, थाना प्रभारी खरसावां, पुअनि सनोज कुमार चौधरी
पुअनि राहुल दुबे, पुनिसीर पिकेट प्रभारी, पुअनि गुंजन कुमार, कुचाई थाना, सअनि कृष्णा टोप्पो, झारखंड जुआर बीडीडीएस टीम, सअनि जितेंद्र कुमार, सअनि गुरुवा मंुडा एवं जिला पुलिस बल, सीआरपीएफ, झारखंड जगुआर के जवान भी थे.