कहीं जलापूर्ति योजना भी चक्रधरपुर नगर परिषद में भ्रष्टाचार की भेंट न चढ़ जाए: पवन शंकर पाण्डेय

चक्रधरपुर नगर परिषद के जलापूर्ति योजना को लेकर पवन शंकर पांडे ने उठाए कई सवाल

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: पूर्व भाजपा जिला उपाध्यक्ष पवन शंकर पाण्डेय ने फिर से चक्रधरपुर नगर परिषद की जलापूर्ति योजना पर उठाए सवाल उन्होंने कहा। हम फिर से एक बार चक्रधरपुर नगर परिषद के क्रियाकलाप की ओर चलते हैं चक्रधरपुर शहरी जलापूर्ति योजना को लेते हैं। हम चाईबासा शहरी जलापूर्ति योजना को याद करें वहां कई वर्षों से कार्य चल रहा है, परंतु अब तक पूर्ण नहीं हो पाया। कहीं यही हाल चक्रधरपुर जलापूर्ति योजना का भी तो होने वाला नहीं है। क्योंकि चक्रधरपुर शहरी जलापूर्ति योजना की देखरेख चक्रधरपुर नगर परिषद के द्वारा संपन्न होना है। जिसकी कार्यकारी एजेंसी जुड़ को है इकरारनामा 27/12/2017 को हुई उसे संपन्न करने की तिथि 26/12/2019 थी। परंतु अवधि विस्तार कर उसे 25/6/2021 तक का समय दिया गया, जो अब समाप्त हो चुका है, परंतु कार्य अब तक आधा भी संपन्न नहीं हो पाया है। प्राक्कलित राशि 51 करोड़ 25 लाख थी परंतु है इकरारनामा हुआ 49 करोड़ 29 लाख में विभाग द्वारा कार्य की भौतिक स्थिति 60% बताई गई है, जो पूर्णता मिथ्या है। दुर्भाग्य तो यह है कि विभाग को जहां से पानी लाना है वहां अब तक कोई कार्य हुआ ही नहीं है। जबकि पहले वही कार्य होना चाहिए था। कार्यकारी एजेंसी द्वारा शहर में जहां-तहां गड्ढा खोदकर पाइप बिछाए जा रहे हैं। उससे संबंधित लगभग 17 करोड की राशि भुगतान हो चुकी है। यदि जहां से पानी लाना है वहां से पानी नहीं आ पाया तो जनता का करोड़ों रुपया बेकार चला जाएगा जो कतई जनहित में सही नहीं होगा। नगर परिषद पदाधिकारी को भी संज्ञान लेते हुए पहले जहां से पानी लाना है वहां कार्य करना चाहिए था। कहीं ऐसा ना हो यह योजना भी एजेंसी और नगर परिषद के लिए कामधेनु गाय साबित ना हो जाए। काम होगा नहीं प्राक्कलित राशि बढ़ती चली जाएगी और राशि का बंदरबांट होता रहेगा। इस पर वरीय पदाधिकारियों एवं सरकार को तत्परता दिखानी चाहिए ताकि इतनी बड़ी योजना समय पर संपन्न हो और उसका लाभ जनता को मिल सके। यदि समय पर पूर्ण नहीं होता है, तो दोषी व्यक्ति पर तत्काल विभागीय व कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। जिस गति से कार्य हो रहा है हमें तो पूर्ण विश्वास है कि यह योजना समय पर पूर्ण नहीं हो पाएगी। श्री पांडे ने वरिष्ठ पदाधिकारी एवं सरकार का ध्यान आकृष्ट कराते हुए मांग की है, कि चक्रधरपुर शहरी जलापूर्ति योजना जो अति महत्वपूर्ण योजना है जनता को इसका लाभ प्राप्त हो। इस पर तत्परता दिखाने की आवश्यकता है। ताकि समय पर संपन्न हो सके नहीं तो यह योजना भी चक्रधरपुर नगर परिषद में भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाएगी।