सुखराम की भूख हड़ताल, गंभीर सरकार, विधायक आवास में बिजली अधिकारियों का लगा दरबार

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: आगामी मंगलवार 20 जुलाई से चक्रधरपुर विद्युत विभाग में विधायक सुखराम उरांव का प्रस्तावित भूख हड़ताल की घोषणा के पश्चात राज्य सरकार गंभीर हो गई है. जिसके बाद बिजली विभाग के उच्च अधिकारियों का दरबार रविवार को विधायक के चक्रधरपुर बनमालीपुर स्थित आवास में लगा.
मालूम रहे कि चक्रधरपुर शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में बिजली की लचर व्यवस्था और बेलगाम अधिकारियों के आदूरदर्शी कार्य प्रणालियों को देखते हुए विधायक सुखराम उरांव ने मंगलवार से विद्युत विभाग चक्रधरपुर में भूख हड़ताल करने की घोषणा की थी. रविवार की सुबह समाचार पत्रों में यह खबर प्रकाशित होने के बाद बिजली विभाग से लेकर राज्य सरकार के महकमे एवं नेताओं में एक करंट सी दौड़ गई. जिसके बाद सैकड़ों फोन की घंटियां विधायक एवं उनसे संबंधित लोगों के पास बजने लगी.
सुबह करीब 11:30 बजे विद्युत विभाग के महाप्रबंधक परितोष कुमार जमशेदपुर से, अधीक्षण अभियंता डीके सिंह चाईबासा से, ट्रांसमिशन महाप्रबंधक एसके चौधरी, कार्यपालक अभियंता पवन कुमार मिश्रा चाईबासा से और सहायक विद्युत अभियंता मनोज कुमार निराला चक्रधरपुर से विधायक सुखराम उरांव के आवास में पहुंचे. करीब ढ़ाई घंटे की मैराथन बैठक में विधायक और विद्युत अधिकारियों के बीच काफी हॉट टॉक हुए. विधायक ने बिजली अधिकारियों को खरी खोटी सुनाया.
अंततः इस बैठक में तय हुआ कि जुलाई माह के अंत तक कुरुलिया ग्रिड को चालू कर दिया जाएगा. इस ग्रिड में केवल ट्रांसमिशन का काम शेष रह गया है. रविवार से ही ग्रिड में तार खींचने का काम शुरु कर दिया गया है. लांडूपोदा ग्रिड का निर्माण कार्य सितंबर माह तक पूरा कर लिये जाने का इकरार हुआ. शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में 20 से 22 घंटे बिजली आपूर्ति करने पर सहमति बनी. जिसके बाद विधायक श्री उरांव ने सितंबर माह तक के लिए भूख हड़ताल को स्थगित कर दिया.

अब बिजली कटौती नहीं होगी : महाप्रबंधक

जमशेदपुर से आए विद्युत विभाग के महाप्रबंधक परितोष कुमार ने कहा कि चक्रधरपुर के देहाती क्षेत्र में बिजली की कटौती हो रही थी. ग्रिड को कम पावर मिल रहा था. इसलिए यह परेशानी आ रही थी. राज्य सरकार से वार्ता के बाद अब चक्रधरपुर में बिजली की कमी नहीं होगी. पूरी खपत की बिजली हमें मिलेगी. इसलिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में भी 20 से 22 घंटे प्रतिदिन बिजली आपूर्ति की जाएगी. कुरुलिया ग्रिड को जुलाई माह के अंत तक चालू कर दिया जाएगा और लांडूपोदा ग्रिड को सितंबर माह तक चालू किया जाएगा. विधायक जी से बात हो गई है, अब चक्रधरपुर विधानसभा क्षेत्र में बिजली की कमी नहीं रहेगी.

सितंबर माह तक भूख हड़ताल स्थगित रहेगी : सुखराम

विधायक सुखराम उरांव ने कहा कि बिजली विभाग के उच्च अधिकारियों की बातों पर यकीन करते हुए सितंबर माह तक भूख हड़ताल स्थगित कर दिया हूं. यदि दी गई अवधि में दोनों ग्रिड चालू नहीं होते हैं और चक्रधरपुर की विद्युत आपूर्ति का नियमितीकरण नहीं होता है, तो पुनः सितंबर माह के बाद बिजली विभाग के खिलाफ आंदोलन होगा. उन्होंने कहा कि कल तक बिजली उपलब्ध नहीं होने की बात विभाग के द्वारा कहा जा रहा था. लेकिन मेरे आंदोलन की घोषणा के बाद से नियमित बिजली आपूर्ति की जा रही है. इससे पता चलता है कि कहीं ना कहीं बिजली का वारा न्यारा हो रहा है.
उन्होंने कहा कि बिजली विभाग में कुछ उच्च अधिकारी राज्य सरकार को बदनाम करना चाहते हैं. ऐसे अधिकारियों को चिन्हित किया जा रहा है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इस मामले में गंभीर है. उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों को डांट फटकार भी लगाया है. जिसका प्रणाम है कि विभाग की ओर से त्वरित कार्रवाई की जा रही है. मेरे आंदोलन की घोषणा के मात्र 7 घंटे के अंदर विभाग की पूरी व्यवस्था चुस्त दुरुस्त हो गई. पहले कानों में जूं तक नहीं रेंग रही थी.
उन्होंने कहा कि दोनों ग्रिड चालू हो जाने से शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र की बिजली समस्या का समाधान निकल आएगा. इसके साथ ही विधानसभा क्षेत्र में खराब पड़े सभी ट्रांसफार्मर को बदला जाएगा. इसकी सूचि तैयार करने को कहा गया है. बिजली अधिकारियों ने इस पर सहमति दी है. उन्होंने कहा कि जनहित के लिए हमारा आंदोलन आगे भी जारी रहेगा.