स्वास्थ्य निदेशक के साथ एमपीडब्ल्यू स्वास्थ्यकर्मियों का वार्ता रहा विफल: कार्तिक उरांव

रांची: झांरखण्ड एमपीडब्ल्यू कर्मचारी संघ के आह्वाहन पर राज्य के सभी जिला के एमपीडब्ल्यू कर्मचारी संघ के द्वारा आज 15 वा दिन भी चरणबद्ध आंदोलन के तहत आज सभी कर्मी तख्ती लगाकर आज कलमबंद हड़ताल पर रहते हुए कार्य करते हुए नजर आए । कल निदेसक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं रांची झांरखण्ड के द्वारा वार्ता हेतु आमंत्रित किया गया था जिसमे झांरखण्ड एमपीडब्ल्यू कर्मचारी संघ के विभिन्न जिलों के संघ के पदाधिकारी सम्मिलित हुए थे लेकिन निदेसक प्रमुख स्तर से पूर्व मे भी कई बार वार्ता किया गया था लेकिन स्वास्थ्य विभाग नेपाल हाउस के द्वारा टाल, मटोल की रवैया आज 5 सालों से अपनाने के कारण आज सभी एमपीडब्ल्यू राज्य स्वास्थ्य कर्मियों का वेतन 5 सालों से 1 रुपये की भी बढ़ोतरी नही हुई है जिस कारण सभी कर्मीयो में रोष है । आज राज्य सरकार के अंतर्गत मल्टी परपस स्वास्थ्य कर्मी कोरोना में सबसें पहले पायदान पर रहकर कार्य कर रहे है , आज इस आंदोलन के दौरान 2 एमपीडब्ल्यू साथी का मृत्यु भी कोरोना संक्रमण के कारण हो चुका है , इसलिए इस बार हम सभी एमपीडब्ल्यू राज्य स्वास्थ्य कर्मी अपने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव से मिलकर वार्ता होने के पश्चात लिखित आश्वासन मिलने के बाद ही हम सभी एमपीडब्ल्यू अपना इस शांतिपूर्ण आंदोलन समाप्त करेंगे । आज 13 सालों से विभाग मे कार्य करने और राज्य स्वास्थ्य कर्मी होने के नाते और इस कोरोना काल में सबसे पहले पायदान पर रहकर कार्य करने के कारण सभी कर्मी अविलंभ विभाग मे समायोजन की मांग कर रहे है ।