प्रशासन ने नहीं सुनी ग्रामीणों की आवाज, सामूहिक प्रयास से डैम का पुनर्निर्माण सम्पन्न

पांकी से लौकेश सिंह की रिपोर्ट

पांकी: पांकी प्रखंड के ग्राम बान्दुबार में वन विभाग द्वारा 4-5 बर्ष पूर्व निर्मित डेम 2019 के बरसात के मैसम में भारी वारिस से डेेम काफी क्षतिग्रस्त हो गया था ।वन विभाग को सूचना एवं जानकारी के बावजूद डैम का मरम्मती कार्य नहीं किया गया | जिसे पिछले वर्ष ग्रामीणों को काफी फसल एवं खेतो में बालू भर जाने से भारी नुकसान उठाना पड़ा।विभागीय उदासीनता को देखते हुए ग्राम -कमिटी बान्दुबार के ग्रामीणों ने कमिटी अपने फंड से डेम का मरमती कार्य करने का निर्णय लिया गया।वन विभाग के अध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह जी ने बताया की डेम से लोगों को काफी लाभ मिल रहा है | वही ग्राम कमेटी बान्दुबार के अध्यक्ष सिद्धांत सिंह संतोष ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा निरंतर विगत 20 वर्षों से प्रत्येक दिन गांव से 8 लोग बान्दुबार के जंगल को रखवाली करते हैं |जंगल को देख वन विभाग के अधिकारियों ने खुश होकर गांव एवं जंगल के किनारे से गुजरी हुई नदी पर डैम बनाने का कार्य किया गया था |डैम से काफी लाभ हम लोगों को मिल रहा है |पेय जल का गांव के कुआं एवं चापानलों में जल का स्तर बढ़ा हुआ है | जंगली जानवरों को पेयजल के साथ साथ सिंचाई का पानी मिलने से लोगों को खेती करने में सुविधा हो रही है |वन विभाग के पदाधिकारियों से मांग करते हैं कि डैम के ऊपर पत्थर से पिचिंग एवं जल निकासी की मुकम्मल व्यवस्था एवं आने जाने के लिए पुलिया का निर्माण हो तो लोगों को काफी सुविधा मुहैया होगी | ग्राम कमेटी के कोषाध्यक्ष ध्रुव कुमार सिंह जी ने बताया कि डैम से लोग काफी तरह के फायदा उठा सकते हैं जैसे मछली पालन कर आर्थिक स्थिति ग्राम कमेटी का सुधारा जा सकता है ।मैं ग्रामीण मच्छिंद्र सिंह, बाल्मीकि सिंह ,धनंजय सिंह, शंभू सिंह दीपक कुमार सिंह ,ने बताया कि डैम से गांव एवं जंगल को बहुत लाभ है और हमें खुशी भी है।हम सभी लोग वन विभाग के पदाधिकारियों से मांग करते हैं कि अन्य तरह के विकास योजनाएं गांव में चलाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *