अधेड़ से होने जा रही नाबालिग की शादी को प्रशासन ने रोका

– उत्तर प्रदेश से शादी रचाने आए 50 वर्ष दूल्हा को बगैर दुल्हन के लौटना पड़ा
नितेश रंजन की रिपोर्ट
पथरगामा: प्रखंड के कोरका घाट गांव की एक गरीब नाबालिग लड़की से शादी करने के लिए उत्तर प्रदेश से आए 50 वर्षीय अधेड़ दूल्हा को बगैर दुल्हन के वापस लौटना पड़ा। प्रशासन की पहल कदमी पर अधेड़ की शादी का मंसूबा साकार नहीं हो सका।
शनिवार को कोरका घाट ग्राम की नाबालिग लड़की की होने जा रही शादी प्रखंड प्रशासन की तत्परता से रुक गई। शनिवार की संध्या प्रखंड प्रशासन को गुप्त सूचना मिली थी कि कोरका घाट गांव में एक नाबालिग की शादी उत्तर प्रदेश के एक अधेड़ से होने जा रही है। सूचना मिलने के बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी अमल कुमार पुलिस बल के साथ कोरका गांव पंहुचे। नाबालिग लड़की के परिजनों से पूरी जानकारी लेने के बाद प्रशासन ने  बाल विवाह होने से रोका । वहीं इसको लेकर परिजनों से बाल विवाह न करने का बंध पत्र भी भरवाया गया।
जानकारी के अनुसार, नाबालिग की शादी उत्तर प्रदेश में लगी थी।  लड़के की उम्र लगभग 50 वर्ष बताई जाती है। उत्तर प्रदेश का यह अधेड़ लड़की के परिवार वालों की गरीबी का फायदा उठाकर बिचौलिए की मदद से शादी करने आया था। नाबालिग लड़की से शादी करने के बदले लड़का पक्ष द्वारा लड़की वालों को रुपए भी दिए गए थे।
मालूम हो कि इस क्षेत्र में ऐसी बिचौलिए सक्रिय हैं, जो गरीबी का फायदा उठाकर लड़कियों को बेच कर अपना जेब भरते हैं। बीडीओ ने परिजनों से कहा कि इस तरह नाबालिग की शादी करना कानूनन अपराध है।