झारखंड को ज्ञान भूमि बनाने को लेकर के केंद्र सरकार ने बढ़ाया कदम, राज्य सरकार जमीन उपलब्ध कराएं

खूंटी: केंद्र सरकार की जनजातीय मंत्रालय ने खूंटी जिले को दीवाली की सौगात लगभग 200 करोड़ का नया मॉडल एकलब्य विद्यालय के रूप में दी है साथ ही उन्होंने खूंटी से सटे बंदगांव में भी मॉडल विद्यालय बनाने की बात कही है। जिले के खूंटी प्रखण्ड अंतर्गत बिरहु पंचायत के रेवा गांव के नॉलेज सिटी प्रोजेक्ट परिसर में एकलव्य विद्यालय का शिलान्यास पद्मविभूषण से सम्मानित कड़िया मुंडा, जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, स्थानीय विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा,कोचे मुंडा ने संयुक्त रूप से किया। जिला प्रशासन समेत जिले की जनता को दीपावली की भेंट से आम-अवाम गदगद दिखे।
भारत सरकार ने निर्णय लिया है कि हर जिले में मेडिकल कॉलेज बने इसके लिए भी केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से जल्द भूमि आवंटित करने को लेकर निर्देश दिया है। केंद्र सरकार इस कोशिश में लगी है कि राज्य के सभी जिलों में केंद्रीय विद्यालय खुलें। केंद्र सरकार का दावा है कि राज्य स्तर पर जितनी सुविधाएं मिलेगी उतनी जल्द योजनाएं बनेंगी जिससे राज्यवासियों को लाभ मिलेगा।
रेवा गांव में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने सबसे पहले एकलव्य विद्यालय का शिलान्यास किया उसके बाद 300 consultater राज्य सरकार को सौंपा। विभिन्न जिलों से पहुंचे स्वास्थ्य पदाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी।
अर्जुन मुंडा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के साथ भी और अलग से भी व्यवस्थाएं की जा रही हैं ताकि गांव के मरीजों को कोई असुविधा न हो।
झारखंड के वीर सपूत भगवान बिरसा मुंडा का जिक्र करते हुए कहा केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि विरसा मुंडा कहते थे कि उलगुलान एटेअः जना। मतलब भगवान ने जिस तरह झारखंड के जल जंगल जमीन को बचाने के लिए उलगुलान किया था उसी तरह झारखंड को ज्ञान भूमि बनाने का संकल्प केंद्र सरकार ने लिया है।