सांस्कृतिक दल ने हो जनजातीय लोक नृत्य के माध्यम से खेती-बाड़ी की जीवन शैली प्रस्तुत कर दर्शकों का दिल जीता

रामगोपाल जेना
चाईबासा:पश्चिम बंगाल के बोलपुर शांति निकेतन के श्रीजनी शिल्पग्राम में पूर्वी क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, कोलकाता द्वारा आयोजित फॉक एंड ट्राइबल आर्ट फेस्टिवल ऑफ झारखंड में पश्चिमी सिंहभूम के सांस्कृतिक दल ने हो जनजातीय लोक नृत्य के माध्यम से खेती-बाड़ी की जीवन शैली प्रस्तुत कर दर्शकों का दिल जीता।लोक नृत्य दल ने नृत्य के विभिन्न विधाओं के माध्यम से झारखंड की जनजातीय किसानों की जीवन यापन के लिए कड़ी मेहनत कर खेती करने का संदेश देने का प्रयास किया।
नृत्य दल के जुलियानी बलमुचु कोड़ा, अशोक कुमार गोप,हरिश बिरुवा, राहुल पूर्ति, रमेश पूर्ति,सुरसिंह सुंडी, शिवनाथ पिंगुवा, सतेन्द्र लागुरी,सामु देवगम, गुरुचरण पिंगुवा, शकुंतला गुईया, पल्लवी पूर्ति,बबली पूर्ति, मंजू पूर्ति,जया बोबोंगा आदि ने आकर्षक नृत्य पेश किया।