उपायुक्त ने राजस्व विभाग से जुड़े कार्यों की समीक्षा की, संबंधित पदाधिकारियों एवं अंचल अधिकारियों को दिए कई आवश्यक निर्देश

चतरा। 18 जून को समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में उपायुक्त दिव्यांशु झा ने विभिन्न विभागों के राजस्व संग्रहण एवं राजस्व विभाग के सम्पूर्ण कार्यो की समीक्षा संबंधित अधिकारियों एवं अंचल अधिकारियों संग बैठक कर की। बैठक में उपायुक्त ने एक-एक कर संबंधित विभाग द्वारा अब तक किए गए राजस्व संग्रहण समेत कार्यो की समीक्षा की। राजस्व संग्रहण की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने जिला खनन पदाधिकारी, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला उत्पाद अधीक्षक, जिला मत्स्य पदाधिकारी, कार्यपालक पदाधिकारी नगर परिषद, अंचल अधिकारी समेत अन्य विभागों के अधिकारियों से राजस्व संग्रहण को लेकर तय लक्ष्य के अनुरूप अब तक किए गए राजस्व संग्रहण की जानकरी ली। उपायुक्त ने विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप राजस्व संग्रहण का निर्देश दिया। जिला खनन पदाधिकारी को बालू के स्टॉक की जांच करने और अवैध बोल्डर, बालू ढुलाई एवं ओवर लोडिंग वाहनों पर पैनी नजर रखते हुए कार्रवाई करने को कहा। जिला परिवहन पदाधिकारी को टीम गठित कर सप्ताह में 1-1 दिन चतरा एवं सिमरिया अनुमंडल में यातायत नियमों के तहत जांच अभियान चलाने का निर्देश दिया। नगर परिषद को सभी सरकारी कार्यालयों, विद्यालयों समेत अन्य की मापी कर डिमांड करने व सभी सरकारी शराब दुकानों का निरंतर जांच करने का निर्देश दिया गया। वहीं राजस्व से जुड़े मामलों की समीक्षा करते हुए मुख्य रूप से दाखिल खारिज, ई कोर्ट, राजस्व संग्रहण, तहसील इंफ्रास्ट्रक्चर, अवैध जमाबंदी अभिलेख की अद्यतन स्थिति, आपदा राहत कोष के तहत आश्रितों को लाभ दिलाने, भूमि हस्तांतरण संबंधित मामले, भूमि रिकॉर्ड, सर्टिफिकेट केस डिस्पोजल, पीजी पोर्टल पर प्राप्त शिकायतों का ससमय निष्पादन समेत अन्य विषयों की बिंदुवार समीक्षा की। उपायुक्त ने अब तक हुए दाखिल खारिज रिपोर्ट पर चर्चा करते हुए निर्धारित समय पर अमीन को प्रतिनियुक्त क्षेत्र में आवश्यक रूप से योगदान देने का निर्देश दिया गया। साथ हीं वज्रपात से मृत्यु समेत अन्य आपदा के तहत होने वाली दुर्घटना पर सभी संबंधित अंचल अधिकारियों को 1 माह के अंदर सभी कार्रवाई पूर्ण कर आश्रितों को आपदा राहत कोष के तहत प्राथमिकता के आधार पर लाभ दिलाने का निर्देश दिया। बैठक में मुख्य रूप से डीडीसी, एसी, एसडीओ चतरा, सिमरिया, जिला भू अर्जन पदाधिकारी, सभी सीओ, बीडीओ व संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।