नरेश को अब तक नहीं मिला बकरी शेड, बांस घेर कर रखता है बकरियां

गिराए गए ईट व बालू उठवाकर ले गए मुखिया

भुपेन्द्र पांडेय

गिद्धौर (चतरा): प्रखंड के मझगांवां पंचायत सिन्दूवारी खुर्द गांव के नरेश दांगी पिता दशरथ दांगी को पूरे पांच वर्ष में भी पंचायत के मुखिया मृदुला देवी बकरी शेड नही दे पाई। नरेश दांगी फिलहाल अपने पास दो दर्जन बकरी तथा कुछ मुर्गा रखा है। जिसका पालन कर वह अपने परिवार का भरण पोषण करता है।उसने बकरी तथा मुर्गी को रखने के लिए बकरी या मुर्गी शेड को लेकर वर्षों से मुखिया जी के आस में बैठा है। परंतु आज तक उसे शेड नही मिल पाया।इस संबंध में नरेश दांगी ने बताया कि वर्ष 2018 में पंचायत की मुखिया मेरे घर पर पहुंच कर बोले कि तुम्हारा बकरी फार्म हो गया है। कुछ दिन बाद मुखिया जी की मेहरबानी से मेरे घर पर दो ट्रैक्टर ईट तथा बालू गिराया गया था। कुछ दिन बीत जाने के बाद मुखिया जी मेरे घर पर पहुंच कर बोले कि तुम्हारा बकरी फार्म नहीं हुआ है। और घर पर गिरे बालू तथा ईटा का पैसा की मांग करने लगे। नरेश दांगी काफी गरीब व लाचार व्यक्ति है वह ईट बालू का पैसा मुखिया जी को देने में असमर्थ था।पैसे नही देने पर आखिर कार मुखिया जी ने नरेश दांगी के घर पर गिरे ईट तथा बालू को उठवााकर ले गए। नरेश दांगी लकड़ी के खूंटा के सहारे तथा बांस को घेर कर बकरियो को रखता है। जिससे जंगली जानवर से हमेशा डर बना रहता है।कई बार तो जंगली जानवर बकरियों को भी ले जा चुके हैं।उसने बताया कि सरकारी योजनाओं का लाभ उसे नही मिलता है।इस संबंध में मुखिया पति सुनील द्वेदी ने कहा कि उसका मुर्गी फार्म बना हुआ है। बकरी शेड के लिए नाम भेजा गया है।पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जो इट और बालू गिराया गया था उसे उठवाया गया है।