झुमरा के तलहटी रहावन गांव में एक युवा किसान का छल्का दर्द 

शिछित बेरोजगार युवक ने एमए मे एडमिशन के पैसे तथा महिला समूह से कर्ज लेकर तरबूज कि की खेती,

लाॅकडाउन व बे मौसम वर्षात ने एसा दगा दिया कि एक लाख की पूजीं लागत मे पांच हजार रूपये भी पूजीं की नहीं हुइ वापसी ,पुनह पलायन को मजबूर

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  गोमिया प्रखंड अंतर्गत पचमो पंचायत के झुमरा पहाड़ के तलहटी रहावन गांव में एक शिछित आइ टीआइ स्नातक बेरोजगार युवक सतोंष कुमार ने डेढ एकड़ भूमि में एक लाख रूपये की लागत लगाकर तरबूज की खेती किया पर लाॅक डाउन व बे मौसम वर्षात ने एसा दगा दिया की लागत पूंजी तो वापस मिलने की दूर एक लाख रूपये लागत में पांच हजार रूपये भी पूजीं वापिस नही मिल पायी, खेत मे आधा से अधिक तरबूज सड गया और कुछ तो कुडा के भाव में बिका और कुछ तो गांव घर में वितरण कर दिया गया ,
कृषि कार्य में जुड़े श्री कुमार का कहना है कि मुझे ये पता नहीं था कि मुझे ऐसा दिन देखने को मिलेगा,उन्होंने कहा मै रामगढ़ अवस्थित इड्डिस्ट्रीयल इसंच्यूट से आइटीआइ किया उसके बाद स्नातक भी किया हूँ एम ए में नाम एडमिशन के लिए 12 हजार रूपये रखा था तथा महिला स्वयं सहायता समूह से मां चंपा देबी ने पचास हजार रूपये कर्ज लेकर तरबूज की खेती में लगा दी कि खेती से जो पैसा आयेगा उस पैसे से एमए मे एडमिशन करा कर महिला स्वय॔ सहायता से लिए कर्ज को वापस कर तरबूज की खेती के बाद अन्य खेती मे बल दिया जायेगा,पर विडब॔ना की बात है कि लाॅकडाउन व बे मौसम वर्षात ने एसा दगा दिया कि नातो एमए में एडमिशन करा पायें ना ही महिला स्वयं सहायता समूह से लिए कर्ज को वापसी करा सके ,अब समझ में नहीं आ रहा है आगे करें तो क्या करें उन्होंने कहा मै मुबइ मे एक औद्योगिक प्प्रतिष्ठान इडूरेंश टेक्नोलॉजी मे कार्यकरता था मै मन ही मन सोचा कि 11-12 हजार रूपये मिलरहे मासिक वेतन मे सिर्फ अपना पेट पल रहा है मै कुछ भी पैसा मां पिता के लिए पैसे भेज नहीं पा रहा हूँ इससे बेहत्तर है अपना घर लौट कर अपनी भूमि मे खेती करू और ईसी सोंच पर सत्र 2019 मे मुबई से वापस अपना गांव लौट गया और एक एकड़ भूमि में टमाटर लगा कर कृषि कार्य में जुड़ गया जिसमें कुछ आमदनी भी हुए इसी हौसले से तरबूज की खेती किया पर समय ने दगा दे गया, अब कर्ज की भरपाई के लिए पुनः दुसरे प्रदेश जाने के लिए तैयारी कर रहा हूँ,ताकि कमाई किये गये पैसे से कर्ज की अदायगी किया जा सके सतोंष ने बोकारो जिला कृषि पदाधिकारी व गोमिया के प्रखंड के बीटीएम से कृषि कार्य में हुई छति पर आंकलन कर मुआवजा दिलाने की मांग की है।