टीचर एवं सीआरपी बीआरपी के समस्या का हो अविलंब निराकरण: राजेश

गोड्डा: राज्य में शिक्षा की ज्योति को घर-घर पहुंचाने वाले पारा शिक्षक एवं बीआरपी सीआरपी के सेवा का नियमितीकरण एवं वेतनमान में वृद्धि करने के संबंध में झारखंड राज्य के मुख्यमंत्री से भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष राजेश कुमार झा ने पत्र एवं मेल के माध्यम से मांग की है। श्री झा ने कहा कि राज्य में शिक्षा विभाग की रीड़ कहे जाने वाले पारा टीचर एवं सीआरपी बीआरपी अपनी समस्याओं को लेकर लगातार आंदोलनरत हैं। पिछले कई वर्षों से अपनी समस्याओं को लेकर समय-समय पर विधानसभा सत्र के दौरान धरना , भूख हड़ताल एवं अनशन कर चुके हैं। पारा टीचर के समस्याओं को लेकर सरकार कुछ गंभीर हुई परंतु कुछ ना कुछ कारणों से अभी तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है।

राज्य की जनता, शिक्षक , पारा शिक्षक एवं सीआरपी- बीआरपी एवं अन्य मानदेय कर्मी के दुआओं के कारण शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो जी चेन्नई से स्वस्थ होकर के रांची लौट आएं हैं। उन्हें यह जीवनदान राज्य वासियों के कल्याण करने के लिए मिला है।

अतः श्री झा ने राज्य सरकार से पारा टीचर की स्थाई नौकरी उनकी सुरक्षा बीमा एवं पेंशन निर्धारण के साथ-साथ उनके वेतन मान में वृद्धि करने की बात की है। साथ ही बीआरपी सीआरपी के सेवा का नियमितीकरण और मानदेय में बढ़ोतरी के साथ ही शिक्षा विभाग के रिक्त पदों में बहाली में प्राथमिकता एवं सीआरपी बीआरपी को प्रशिक्षित कराकर शिक्षक नियुक्ति में भी प्राथमिकता देने की मांग की है। इसकी प्रतिलिपि शिक्षा मंत्री एवं राज्य परियोजना निर्देशक को दी गई है।