चतरा जिले के ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाओं की नही है कमी, गांव में पली बढ़ी शीतल सिन्हा ने नौकरी छोड़ फिल्म जगत में बनायी अपनी पहचान

कई फिल्मए वेब सीरिजए लघु फिल्मए एल्बम में अपने अभिनय का मनवा चुकी है लोहा

इटखोरी (चतरा): चतरा जिले के ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाओं की कमी नही होने के साथ चुनौतियों को भी स्वीकारने का जज्बा युवाओं में है। इसे साबित कर दिखाया है चतरा जिले के इटखोरी प्रखंड अंतर्गत पितीज गांव की शीतल सिन्हा ने फिल्म जगत में अपनी अलग पहचान बना कर। नौकरी छोड़कर फिल्म जगत में अपना करियर बना रही शीतल साधारण व्यवसायी प्रभु दयाल प्रसाद की पुत्री है। मैट्रिक तक की पढ़ाई पितीज से करने के बाद उच्च शिक्षा हजारीबाग में प्राप्त की। एमएससी तक की पढ़ाई करने के बाद बाद गुजरात में एनआईसीएल ;नेशनल इंश्यूरेंस कंपनी लिमिटेडद्ध में नौकर कियाए लेकिन शीतल उसके अंदर का कलाकार बराबर सिल्वर स्क्रिन की ओर कदम बढ़ाने के लिए प्रेरित करता रहा। डेढ़ वर्ष काम करने के बाद वह रांची लौटी शीतल फिल्म जगत में काम करना शुरू किया। सबसे पहले हिंदी फिल्म यंग इंडिया में काम कीए हालांकि किसी कारण से वह रिलिज नहीं हुईए इसके बाद लगातार इस क्षेत्र में काम करती रही शीतल कई वेब सीरिजए लघु फिल्मए एल्बम में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुकी है। शीतल ने छह फिल्मए 15 एल्बमए कई वेब सीरिज में काम किया है। फिलहाल साई इंटरटेनमेंट हब के बैनर तले शॉर्ट फिल्मो में काम कर रही है। शीतल वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में चतरा संसदीय क्षेत्र के ब्रांड अंबेसडर भी रह चुकी है। पंजाबी मूवी काली सरहद सेकेंड लीडए भोजपुरी फिल्म नाम बदनामए रोमियो राजा में काम कर चुकी है। इसके अलावे कई नागपुरी फिल्मो में भी अभिनय करने के अलावे हिंदी फिल्म शुभ लाभए भोजपुरी फिल्म हिम्मतए अग्निपुत्रए पूंजचालीए अग्निपुत्र टू में भी काम कर चुकी हैं।