नप क्षेत्र में मृत बछड़ा को उठाने के नाम पर अध्यक्ष एवं वार्ड पार्षद के बीच जमकर हुई खींचतान

– उठाने के लिए पैसे की मांग किए जाने पर भड़के वार्ड पार्षद प्रीतम गाडिया
– नगर परिषद के सोशल मीडिया ग्रुप में मृत गाय को उठाने की मांग किए जाने पर अध्यक्ष ने वार्ड पार्षद को लिखा, तुम भी तो उठा सकते हो माता है तुम्हारी माता……

गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट
गोड्डा: नगर परिषद क्षेत्र के मुख्य बाजार में पुरानी काली मंदिर के पास बुधवार को सुबह एक बाछा मृत पाया गया। बछड़ा उठाने के बारे में स्थानीय वार्ड पार्षद प्रीतम गाडिया ने जब नगर परिषद अध्यक्ष को सूचित किया तो 500 रुपए भुगतान करने पर उठाने की बात कही गई। नगर परिषद के व्हाट्सएप ग्रुप पर इस मुद्दे पर अध्यक्ष एवं वार्ड पार्षद के बीच जमकर बतकही हुई। इस बतकही के दौरान अध्यक्ष जितेंद्र कुमार उर्फ गुड्डू मंडल ने वार्ड पार्षद को लिखा, “तुम भी तो उठवा सकते हो। माता है माता तुम्हारी। माता को ऐसे सड़क पर कैसे छोड़ोगे।”काफी खींचातानी के बाद दोपहर बाद करीब एक बजे नगर परिषद द्वारा बछड़ा को पाया गया। अध्यक्ष के इस तरह के संवेदनहीन रवैया पर स्थानीय लोगों ने गहरी नाराजगी का इजहार किया है।
वहीं अध्यक्ष ने वार्ड पार्षद को सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की हिदायत देते हुए कहा है कि माफी नहीं मांगने पर 15 दिन बाद न्यायालय की शरण जाएंगे।
दरअसल बुधवार की सुबह नगर परिषद क्षेत्र मे नगर के बीचों बीच पुरानी काली मंदिर के पास एक बाछा मृत होकर पड़ा हुआ था। जिसकी सूचना स्थानीय निवासियों ने वार्ड पार्षद प्रीतम गाडिया को दी। श्री गाडिया ने इसकी जानकारी अविलंब नगर परिषद को देकर उठवाने की मांग की।जिसके लिये नगर परिषद से 500 रुपए की मांग की गई। नगर परिषद ग्रूप में नगर अध्यक्ष ने पार्षद को कहा, आपकी माता है। आप उठाव करवा दीजिये । श्री गाडिया के द्वारा जनता के टैक्स देने की बात करने पर उलटे श्री गाडिया को अध्यक्ष द्वारा टैक्स चोर बताया गया। वार्ड पार्षद ने मांग की कि इसका प्रमाण नगर अध्यक्ष को अविलंब देना चाहिए। अगर पार्षद के द्वारा टैक्स की चोरी की गई है तो अविलंब कार्यवाही करनी चाहिए, नहीं तो सार्वजनिक रूप से अध्यक्ष को माफ़ी मांगनी चाहिए।
श्री गाडिया ने बताया कि कई बार नगर अध्यक्ष एवं कार्यपालक पदाधिकारी को वार्ड में खराब पड़े भेपर लाइट की सूचना देने के बावजूद आज तक भेपर लाईट मरम्मत की व्यवस्था नहीं की गई।श्री गाडिया ने बताया कि
जब पार्षद से पैसे की मांग की जा सकती है तो आम जनता का तो भगवान ही मालिक है।
जनता से टैक्स की वसूली बंद होनी चाहिए। जर्जर नाले, टूटी सड़क, भेपर बंद,कचरे का अंबार ये है हमारा नगर परिषद परिवार।
जीवित व्यक्तियों के लिये चचरी की व्यवस्था की जाती है और मृत पशुओं के लिये पैसे की मांग की जाती है।
मौके पर मौजूद संतोष साह ने बताया कि अध्यक्ष को सूचना देने पर 10 मिनट में उठाव करने की बात की जाती है और सुबह से दोपहर बात जाने पर भी मृत पशु का उठाव नहीं करवाया जाना बहुत ही दुखद है।
वहीं इस पूरे प्रसंग पर नगर परिषद अध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने वार्ड पार्षद को दोषी ठहराते हुए चेतावनी दी है कि वह सार्वजनिक रूप से माफी मांगे। माफी नहीं मांगने पर वार्ड पार्षद के खिलाफ अध्यक्ष न्यायालय की शरण जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *