काम की तलाश में घर से भागी तीन लडकियां हज़ारीबाग़ से बरामद

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो: सरकार पलायन रोकने का लाख दावा करे लेकिन गरीबी के कारण पलायन अब भी जारी है। ऐसा ही एक मामला बोकारो के गोमिया प्रखंड से सामने आया है। गोमिया के साड़म से तीन युवतियां घर मे बिना कुछ बताये निकल गई। काफी खोजबीन के बाद भी जब गायब हुई युवतियों के कोई सुराग हाथ नही लगा तो पुलिस को घटना की सूचना दी गई। घटना के दूसरे दिन पुलिस अभी जाँच वास्ते कदम आगे बढ़ायी ही थी कि हज़ारीबाग़ पुलिस ने गोमिया पुलिस को गुमशुदा लड़कियों की हज़ारीबाग़ में की सूचना दी। दरअसल ये तीनो युवतियां गोमिया से सटे ज़िला हज़ारीबाग़ पहुँची और वहाँ एक वाहन चालक को रेलवे स्टेशन छोड़ देने को कहा, वाहन चालक इन तीन युवतियों को अकेले देख पहले ही सशंकित था, उसने तीनो युवतियों को वाहन में बैठा तो लिया लेकिन वह स्टेशन ना जाकर सीधे स्थानीय मुखिया के घर पहुँचकर पूरी जानकारी मुखिया को दी। मुखिया ने जब युवतियों से पूछताछ की तो सच्चाई सामने आ गई वो तीनो युवतियां कामकाज के तलाश में स्टेशन से ट्रेन पकड़ने के लिए निकली थी। मुखिया ने तुरंत इसकी सूचना हज़ारीबाग़ पुलिस को दी, पुलिस ने तीनों युवतियों से पूछताछ कर गोमिया पुलिस को सूचित कर तीनो युवतियों को स्थानीय उज्वला होम रखवा दिया। गोमिया पुलिस द्वारा गुमशुदा युवतियों के परिजनों को उनके सकुशल होने की सूचना पर आज परिजन हज़ारीबाग़ पहुच सभी ओउपचरिकताये पूरी कर तीनो युवतियों को वापस गोमिया लेकर पहुँचे। इन तीनो युवतियों की ज़िंदगी तबाह होने से सिर्फ इसलिए बच गई क्योंकि जिस वाहन चालक से युवतियों ने सटेशन पहुचाने को कही थी उसने वक़्त रहते स्तिथि को भांपा और सही दिशा में कदम उठाया।