दो नवजातों सहित लावारिस मानसिक मरीज महिला को डीएलएसए के पहल पर मिली चिकित्सीय सेवा

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट

सरायकेला। जिला विधिक सेवा प्राधिकार सरायकेला द्वारा क्षेत्र के आमजनों में संवैधानिक एवं विधिक जानकारी देते हुए जनसेवा कार्य भी निरन्तर किया जा रहा है। अमृत महोत्सव का कार्यक्रम भी अपने चरम पर है। इसी कड़ी में शनिवार रात लगभग दस बजे चांडिल से जिला विधिक सेवा प्राधिकार के PLV द्वारा यह सूचना दी गई की चांडिल बाजार में एक मानसिक रूप से बीमार महिला अपने दो नवजात शिशु के साथ लावारिस खुले आसमान नीचे पड़ी हुई है। जानकारी मिलते ही तत्काल विधिक सेवा प्राधिकार हरकत में आया और सचिव के निर्देश पर स्थानीय पीएलबी रमजान स्थानीय लोगों की मदद से मानसिक रूप से बीमार महिला और उसके दो नवजात बच्चों को तत्काल अनुमंडल अस्पताल में भर्ती कराए। जहां डॉक्टरों ने त्वरित कार्यवाही करते हुए जच्चा और बच्चे का इलाज शुरू कर उनकी स्थिति गंभीर होने से बचाए। रविवार अहले सुबह प्राधिकार के सचिव स्वयं चांडिल पहुंच महिला और उनके नवजात शिशुओं की स्थिति देखते हुए डॉक्टरों से बात की और उसके उचित इलाज हेतु अनुरोध किया। प्राधिकार सचिव ने उपायुक्त से भी इस सम्बंध बात की। उपायुक्त ने त्वरित कार्यवाही करते हुए इनके उचित इलाज का निर्देश दिया। सचिव अस्पताल में ही रहे और डॉक्टरों की सलाह पर तत्काल व्यवस्था कर बेहतर इलाज हेतु बीमार महिला और उसके दो नवजात शिशुओं को तत्काल एमजीएम जमशेदपुर भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित की। साथ में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव के निर्देश पर पीएलबी मोहम्मद रमजान भी उनके साथ गए और उनका इलाज एमजीएम में शुरू करवाये। इसके साथ ही अमृत महोत्सव के कार्यक्रम के तहत आज जिले के सभी पीएलबी और अन्य कार्यकर्ता गांव गांव जाकर सैकड़ो लोगों से संपर्क किए। उन्हें सरकारी योजनाओं की जानकारी दी और कानूनी जानकारी भी दी गई। आज करीब 80 से अधिक गांव में जिला विधिक सेवा प्राधिकार की टीम ने भ्रमण किया। इसकी जानकारी प्राधिकार के सचिव कुमार क्रांति प्रसाद द्वारा दी गयी।