एसडीओ चैनपुर व श्रम अधीक्षक की संयुक्त अध्यक्षता में ई-श्रम कार्ड बनाने के संबंध में बैठक कर दी गई जानकारी

गुमला: अनुमण्डल पदाधिकारी चैनपुर सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी डुमरी प्रिति किस्कू एवं श्रम अधीक्षक गुमला एतवारी महतो की संयुक्त अध्यक्षता में चैनपुर, डुमरी एवं अल्बर्ट एक्का जारी के प्रखंड विकास पदाधिकारी, पंचायत सेवक, कर्मचारी, रोजगार सेवक, आँगनबाड़ी सेविका/सहायिका एवं सहियाओं के साथ बैठक सम्पन्न हुआ। बैठक में मुख्य रूप से ई-श्रम कार्ड बनाने के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई।
बैठक के दौरान श्रम अधीक्षक के द्वारा बताया गया 16 से 59 वर्ष के श्रमिक/मजदूर जो असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे है वैसे श्रमिकों का निःशुल्क पंजीकरण कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) में किया जाना है। श्रम एवं रोजगार मंत्रालय भारत सरकार द्वारा असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों का डाटाबेस तैयार करने के लिए ई-श्रम पोर्टल लांच किया गया है। उन्होंने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों को अब ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण कराने के बाद सरकार की विभिन्न योजनाओं का मिलने वाले लाभ के बारे में विस्तृत जानकारी दी। भारत सरकार के श्रम एवं रोजगार विभाग के नेशनल डाटाबेस ऑफ अन आर्गेनाईज्ड वर्क्स कार्यक्रम के तहत् कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) के माध्यम से यह कार्य किया जा रहा है। पंजीकरण के बाद श्रमिकों व मजदूरों के यूनिक आई कार्ड बनाएं जाते है। इस यूनिक आईडी कार्ड बनते ही असंगठित श्रमिकों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना सहित सरकार की ओर से दी जाने वाली अन्य कल्याणकारी योजनाओं का लाभ भी मिलेगा। यूनिक आईडी कार्ड के माध्यम से श्रमिकों की विभिन्न गतिविधियों और वह किस राज्य से किस राज्य में जा रहे है उसे भी आसानी से ट्रैक किया जा सकेगा। आपदा के समय इन असंगठित श्रमिकों का आसानी से मदद पहुँचाई जा सकेगी। सरकार रोजगार के अवसर भी सृजित कर सकेगी। आवेदक किसी भी संगठित समूह या संस्था का सदस्य नहीं होनी चाहिए।
पंजीकरण के लिए आवश्यक कागजात व शर्ते
पंजी के लिए आवेदक के पास आधार कार्ड नंबर, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी, मोबाईल/फोन नम्बर होना अनिवार्य है। श्रमिक आयकरदाता नहीं होनी चाहिए। ईपीएफओ और ईएसआईसी का सदस्य नहीं होना चाहिए। इस संबंध में अधिक जानकारी श्रम विभाग कार्यालय से ली जा सकती है।
अहर्त्ता पूरा करने वाले कर्मी/श्रमिक/मजदूर असंगठित क्षेत्र के श्रमिक यथा-निर्माण श्रमिक, मनरेगा श्रमिक, आँगनबाड़ी सेविका/सहायिका, आशा कर्मी, रसोईया, प्रवासी मजदूर, स्वयं सहायता समूह की महिलाएं, घरेलू कामगार, कृषि श्रमिक, मछुआरे, जल सहिया, सब्जी-फल बिक्रेता, ऑटो व रिक्शा चालक, दूध बेचने वाले, छोटे एवं सीमांत किसान, खेतीहर मजदूर, पशुपालन में लगे लोग, ईंट भट्टा और पत्थर खदानों में काम करने वाले, भवन निर्माण श्रमिक, समाचार पत्र बिक्रेता, छोटे दुकानदार, नाई, आरा मिलों में काम करने वाले, रेशम उत्पादन कार्यकर्त्ता आदि असंगठित क्षेत्र के कामगार/श्रमिक।
ई-श्रम कार्ड हेतु ऑनलाइन किया जाएगा

बैठक के दौरान प्रज्ञा केंद्र प्रबंधक रंजन नंदा व अभिषेक रॉय द्वारा संबंधित तीनों प्रखंड कार्यालय के बाहर में आए ग्रामीणों को स्थानीय भाषा में सभी को ई-श्रम में निबंधन करने के लिए अपील किया गया।
बैठक में अनुमण्डल पदाधिकारी चैनपुर सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी डुमरी प्रिति किस्कू, श्रम अधीक्षक गुमला एतवारी महतो, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी चैनपुर शिशिर कुमार सिंह, प्रखण्ड विकास व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।