वज्रपात की घटना के बाद लरता गांव में परिजनों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा

खूंटी:  खूंटी जिले के कर्रा में वज्रपात की चपेट में आने से एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत की दुखद घटना के बाद सोमवार को केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा लरता पंचायत के डहुटोली गांव पहुंचे। परिजनों में मिलकर उनका हाल जाना और बेहतर सहायता देने को लेकर डीसी को निर्देश दिया है। केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने बताया कि हृदय विदारक घटना सुनने के बाद वो अचानक कर्रा पहुंचे। मौके पर डीसी शशि रंजन को निर्देश दिया है कि जल्द से जल्द परिजनों की मदद करेंगे।
जिले के कर्रा प्रखंड क्षेत्र में अत्यधिक वज्रपात की घटनाओं से कर्रा प्रखंड क्षेत्र के लोग खौफ में जीने को मजबूर है। आए दिन आसमानी कहर से जान माल का नुकसान होता रहा है लेकिन एक साथ एक ही दिन में पांच लोगों की मौत हो जाएगी ये किसी ने सपने में भी नही सोचा था। मौसम बिगड़ते ही लोग अपने घरों में दुबक जाते है ताकि वज्रपात से बच सके वावजूद कभी कभार वज्रपात घरों के अंदर रह रहे आमलोगों को भी अपनी चपेट में ले लेता है। क्षेत्र में आसमानी कहर से बचने के लिए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लोगों को खासकर किसान वर्ग के लोग खेतो में जब भी काम कर रहे हो तो वो अपने पैरों में कुछ पहान ले ताकि बिजली का करंट से बचा जा सकता है। उन्होंने कहा जब भी बिजली गिरती है तो आसपास के लोगों को चपेट में ले लेता है खासकर खाली पैर वालों को ज्यादा नुकसान होता है।
कर्रा प्रखंड क्षेत्र में आए दिन वज्रपात की बढ़ती घटनाओ के सवाल पर अर्जुन मुंडा ने कहा कि यहाँ की भौगोलिक स्थिति की जांच करवाई जाएगी। साथ ही तड़ित-चालक नही होने के सवाल पर कहा कि इस संबंध मे जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। गौरतलब है कि तीन वर्ष पूर्व जिले के सरकारी स्कूलों,अस्पताल व अन्य सरकारी बिल्डिंग में तड़ित चालक वृहद पैमाने पर लगाई गई थी। इसके अलावा जहां भी बिल्डिंग निर्माण कार्य होते है वहां तड़ित चालक लगाए जाने का प्रावधान है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या कर्रा इलाके में तड़ित चालक नही लगाया गया था। अगर लगाया जाता तो शायद आसमानी कहर पर काबू पाया जा सकता था। कर्रा में आये दिन जानवर व इंसानों की बढ़ती मौत के बाद जिला प्रशासन तड़ित चालक लगवाने पर जोर देगी।