जागरूकता वाहन के माध्यम ग्रामीणों को मिल रही है विधिक एवं जनहितकारी योजनाओं की जानकारी

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट

सरायकेला। अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत जिले के विभिन्न प्रखंडों के सुदूरवर्ती गांव में विधिक जागरूकता शिविर के साथ-साथ लोगों को सरकारी जनहितकारी योजनाओं के बारे में जागरूक किया जा रहा है। इसी कड़ी में शुक्रवार को जिले के सभी प्रखंडों के सुदूरवर्ती गांवों में आम लोगों से संपर्क स्थापित करने, उनके समस्याओं को जानने, तथा, उन्हें सरकारी योजनाओं से जोड़ने के लिए जागरूकता रथ (मोबाइल बैन) भी व्यवहार न्यायालय, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के कार्यालय से प्रस्थान किया गया । यह क्रमवार सभी प्रखंडों के गांव-गांव घूमेगा और लोगों को विधिक जानकारी और योजनाओं से जोड़ने का काम करेगा । इसके साथ ही आज के प्रमुख कार्यक्रम सरायकेला प्रखंड अंतर्गत पठानमारा पंचायत के कुली ग्राम में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार विजय कुमार भी सम्मिलित हुए । गांव के लोगों का उत्साह देखते ही बनता था, काफी बड़ी संख्या में महिलाएं, पुरुष और बच्चे शामिल हुए। प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने विभिन्न योजनाओं और कानून के बारे में उन्हें जानकारी दी और उनसे आग्रह किया कि अगर किसी भी तरह की कोई समस्या हो तो जिला विधिक सेवा प्राधिकार के कार्यालय में उपस्थित होकर अपने समस्या का निदान करें । सचिव कुमार क्रांति प्रसाद ने लोगों को मुफ्त विधिक सहायता, मध्यस्थता, डायन प्रथा जैसे विषयों पर महत्वपूर्ण जानकारी दी । अपने पारा लीगल वालंटियर को यह निर्देश दिया कि वह लोगों की मदद करते हुए उनका श्रमिक कार्ड, आयुष्मान कार्ड, और जॉब कार्ड जैसे कई योजनाओं से जोड़ने में उन्हें मदद करें । आज मोबाइल वैन जिले के करीब 30-35 गांव में घुमा, जागरुक किया और, योजनाओं से जोड़ने के बारे में बताया गया । इसके साथ ही पारा लीगल वालंटियर और अन्य एजेंसी के माध्यम से करीब 80 गांव का भ्रमण जिला विधिक सेवा प्राधिकार की टीम ने किया। जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा आम जनों से अपील किया गया कि वे अधिक से अधिक संख्या में अमृत महोत्सव जैसे कार्यक्रम का लाभ उठाएं और सरकारी योजनाओं से जुड़े और साथ ही साथ विधिक जानकारी भी प्राप्त करें ।