भारत माला प्रोजेक्ट के विरोध में 27 राजस्व ग्राम के ग्रामीण

खूंटी: खूंटी जिले में भारतमाला प्रोजेक्ट को लेकर कर्रा प्रखण्ड के 27 राजस्व ग्राम के ग्रामीण एकजुट होने लगे हैं और प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे हैं। इसी क्रम में आज खुंटी समाहरणालय के सामने 27 राजस्व ग्राम के प्रतिनिधि विरोध के लिए जुटे और उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा।

बता दें कि भारत माला प्रोजेक्ट केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी परियोजना है। विरोध में शामिल ग्रामीणों ने बताया कि भारतमाला प्रोजेक्ट में 27 राजस्व ग्राम के ग्रामीणों की दो हजार एकड़ से ज्यादा कृषि, चारागाह, सरना मसना और वन भूमि की जमीन जाएगी। ग्रामीणों ने कहा कि प्रत्येक दिन संबंधित क्षेत्र के ग्रामीण बैठक आयोजित कर भारतमाला प्रोजेक्ट के विरोध में अपनी राय रख रहे हैं। ग्रामीणों का मानना है कि भारतमाला प्रोजेक्ट छह लेन की बनायी जाएगी इससे कर्रा प्रखण्ड के बकसपुर से कुलहुटू तक 2000 एकड़ से ज्यादा जमीन अधिगृहित की जाएगी। ग्रामीणों ने कहा कि जनजातीय और मूलवासी समुदाय कृषि योग्य भूमि में छह लेन में बनायी जाने वाली भारत माला प्रोजेक्ट के विरोध में खड़ी रहेगी। ग्रामीणों का मानना है कि भारतमाला प्रोजेक्ट बड़ी कंपनियों और कॉर्पोरेट घरानों को लाभ पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित प्रोजेक्ट है। प्रोजेक्ट को लेकर कर्रा प्रखण्ड के 27 राजस्व ग्राम के ग्रामीण किसी कीमत पर प्रोजेक्ट को अपनी जमीन नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी मूलवासी और आदिवासी समुदाय अपनी कृषि योग्य भूमि से बेदखल किये गए हैं ऐसे में अब ग्रामीण बड़ी कंपनियों के लिए कृषि भूमि नहीं देंगे।