बाईपास निमार्ण को रद्द करने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने दिया धरना

गुमला से बसंत गुप्ता
गुमला: सिस‌ई एन एच 23 फोरलेन सड़क निर्माण में नीतियों की जमीन की उचित मुआवजा और बाईपास का निर्माण रद्द करने कि मांग को लेकर पुराने प्रखंड मुख्यालय परिसर में ग्रामीणों ने एक दिवसीय धरना दिया का प्रदर्शन शुक्रवार को किया गया
धरना प्रदर्शन में भूधारक को संबोधित करते हुए श्री गिताश्री उरांव ने कहा काफी समय से ही रांची गुमला के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 23 मौजूद ही है तो फिर बाईपास पास सङक निर्माण केंद्र सरकार कर सैकङो आदिवासी मूलवासी भूधारक ग्रामीणो का रयती जमीन को छीनना चाहती है जो बिल्कुल ही सरकार कि गलत निति है एक तो केंद्र सरकार द्वारा भूमिधारको का जमीन को जबरदस्ती छीन कर बाईपास सङक निर्माण कराना चाहती है
केंद्र सरकार की इस गंदी निति और गंदी मांसिकता को दर्शाती है।
केंद्र सरकार आदिवासी और मूलवासी के जमीन को छीन कर लोगो को बेघर करना चाहती है जो कतई बर्दाश्त नही किया जाऐगा।जब तक जनता की मांग के अनुसार मौजा भूधारक को नही मिलती है तब तक कोई भी भूधारक बाईपास सङक निर्माण के लिए अपनी बापुती जमीन को नही देगी और सुरू से ही सिसई प्रखंड के ग्रामीणो ने बाईपास सङक निर्माण को रद कराने की मांग करता रहा है साथ ही मुझे और वर्तमान विधायक को पहल करने के लिए दबाव बनाते रहे है जिसे लेकर इस समस्या से राज्य के मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन जी को भी अवगत कराया जाता रहा है लेकिन इस ओर अभी तक कोई पहल नही होना भूधारको के लिए चिंता का विषय है।
बैठक मे उपस्थित भूधारको ने जान देंगे जमीन नही देंगे व बाईपास सङक निर्माण को रद करना होगा का नारा भी लगाया साथ ही सरकार को चेतावनी देते हुवे कुछ देरो के लिए ब्लाॅक के समिप राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर केंद्र सरकार की गंती निति के खिलाफ नारेबाजी भी किया।
इस दौरान सभी भूधारको ने राज्य के मुख्यमंत्री माननीय श्री हेमंत सोरेन जी को हस्ताक्षर युक्त आवेदन पूर्व शिक्षा मंत्री गीता श्री उरांव को आवेदन देकर अवगत कराते हुवे बाईपास सङक निर्माण को रद करने का मांग किया है।इस मौके पर सिसई विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस पार्टी के युवा नेता श्री गंगा उराँव, बनबिहरी भगत, रामधारी सिंह, रबिन्द्र उराँव, दामोदर सिंह रामलाल साहू, जीतराय उराँव, गोपाल उराँव, र्कातिक उराँव, जगरनाथ उराँव, रामदयाल उराँव, कमला उराँव, सचमित्रा देबी, पुनम देबी,सुरेश उराँव शकुंतला मिंज, जानकी उराँव राजेश उराँव नागेश्वर कुमार यादव एवं सैकड़ों रैयत उपस्तिथ था