रजरप्पा थाना क्षेत्र के बड़कीपोना में रावण दहन के दौरान हुआ ग्रामीणों और पुलिस में हिंसक झड़प, डीएसपी संजीव और रजरप्पा थाना प्रभारी विपिन हुए घायल

रावण दहन रोकने के लिए गई पुलिस दल पर हुआ जानलेवा हमला

डीएसपी मुख्यालय को भी लगी है चोट

कई पुलिस अधिकारी और जवान हुए घायल, कई ग्रामीण को भी लगी है चोट

जिला के एसपी सहित कई अधिकारी गांव में कर रहे कैंप, छावनी में तब्दील

रामगढ़ से वली उल्लाह की रिपोर्ट

रामगढ़। जिला में शनिवार दुर्घटनाओं का दिन रहा। जिला में सुबह भुरकुंडा के एक कांग्रेसी नेता की हत्या की खबर सामने आई वहीं शाम को रजरप्पा थाना क्षेत्र के बड़कीपोना गांव में रावण दहन के विवाद में बड़ी घटना घटने की बात सामने आई है। घटना जिला के रजरप्पा थाना क्षेत्र के बड़कीपोना गांव के केतारी टोला की बताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार बड़कीपौना दुर्गा पूजा कमेटी द्वारा के तारी टोला में रावण दहन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। शनिवार की देर शाम 6 बजे से रावण दहन का कार्यक्रम आरंभ हुआ। अभी अतिथियों का स्वागत ही चल रहा था कि इतने में रजरप्पा थाना पुलिस पहुंच गई। रजरप्पा थाना प्रभारी विपिन कुमार ने आयोजकों से कहा कि एसपी साहब का आदेश है कि रावण दहन नहीं करना है। इसके बावजूद आप लोग रावण दहन कैसे कर रहे हैं। पुलिस और आयोजकों में अभी बातचीत चल ही रही थी कि इतने में किसी ने बिजली का लाइन काट दिया। इसके बाद यहां विवाद आरंभ हुआ। विवाद आरंभ होते ही गांव के लोग उग्र हो गए।

पुलिस और आयोजकों के बीच विवाद हो ही रहा था कि गांव के लोगों ने पत्थर चलाना शुरु कर दिया। जिसके बाद वहां पर भगदड़ मच गई। भगदड़ मचने के बाद कई पुलिसकर्मी पत्थर की मार से जख्मी हो गए। इस दौरान पुलिस ने बीच बचाव करते हुए लाठीचार्ज किया है। जिसमें कई ग्रामीणों को चोट लगने की बात कही जा रही है।

इस हिंसक झड़प में डीएसपी मुख्यालय संजीव कुमार मिश्रा, रजरप्पा थाना प्रभारी विपिन देवनारायण ठाकुर नरेंद्र कुमार सहित 5 अन्य पुलिसकर्मी पत्थर की मार से घायल हो गए हैं। उनका रामगढ़ सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। वही पत्थरबाजी से पुलिस के वाहन भी क्षतिग्रस्त हुए हैं। इस घटना की जानकारी मिलते ही गांव को रामगढ़ पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया है। जिला के पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में कार्रवाई आरंभ हो गई है।

वहीं जानकारों ने बताया कि गांव में रावण दहन करने वाले ज्यादातर लोग भाग निकले हैं। पुलिस अधीक्षक और रामगढ़ के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी नेतृत्व में गिरफ्तारी के लिए छापामारी चल रही है। पूरे गांव में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं। वहीं रामगढ़ एसडीओ जावेेेद हुसैैैन ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर निषेधाज्ञा लगाई जा सकती है।