मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण को लेकर बैठक

राजनीतिक दल भी बूथ लेवल एजेंट नियुक्त

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो: मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2022 को लेकर शुक्रवार को अनुमंडल पदाधिकारी चास सह निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी दिलीप प्रताप सिंह शेखावत ने जिले के विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। मौके पर बीडीओ चास सह सहायक निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी मिथिलेश कुमार चौधरी उपस्थित थे।

बैठक में राजनीतिक पार्टी प्रतिनिधियों को एसडीओ सह निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी ने पुनरीक्षण पूर्व गतिविधियों के संबंध में जानकारी दी। बताया कि नौ अगस्त से आगामी 31 अक्तूबर तक सभी डीएसई, लॉजिकल एरर को पूर्ण रूप से हटाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए सभी बूथ लेवल एजेंट (बीएलओ) घर – घर जाकर मतदाता सूची का सत्यापन करेंगे। उन्होंने राजनीतिक पार्टी प्रतिनिधियों को भी अपने स्तर से बूथ लेवल एजेंट (बीएलए) नियुक्त करने की बात कहीं। ताकि बीएलओ – बीएलए आपस में समन्वय स्थापित कर मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम 2022 का कार्य ससमय सफलता पूर्वक कर सकें।

एसडीओ सह निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी ने कहा कि इस क्रम में अनुभागों में यदि सुधार की आवश्यकता है तो किया जाएगा। मतदान केंद्रों का व्यावस्थिकरण/युक्तिकरण भी करना सुनिश्चित किया जाएगा। इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में प्रति मतदान केंद्र में 1200 एवं शहरी मतदान केंद्रों में 1500 मतदाताओं की अधिकतम संख्या निर्धारित है। मतदान केंद्र मतदाताओं के घर से दो किमी की दूरी पर अवस्थित होना चाहिए। इसके अतिरिक्त बैठक में संबंधित प्रपत्रों प्रपत्र छह, प्रपत्र सात, प्रपत्र आठ आदि की जानकारी विस्तार से दी गई।

निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी ने कहा कि चुनावी गतिविधियों को आसान करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने नवीन तकनीक का प्रयोग किया है। एक क्लिक पर मतदाता से जुड़ी सभी जानकारी मिले, इसके लिए गरुड़ एप विकसित किया गया है। उन्होंने बताया कि गरुड़ एप सभी बीएलओ को अपने फोन में डाउनलोड करना अनिवार्य किया गया है। गरुड़ एप्प में सभी प्रपत्रों का ऑनलाइन इंट्री की जा रही है। उन्हें लॉजिकल एरर, गरुड़ा एप, ईपिक डाउनलोड, ईपिक वितरण व अन्य संबंधित जानकारी दी गई। इसके अलावा कहा कि ईआरओ नेट में प्रपत्र सात प्रविष्टि होने के बाद प्रपत्र – 10 जेनरेट किया जाता है, जिसे कार्यालय के सूचना पट्ट पर प्रकाशित किया जाता है। इस क्रम में विलोपित हो रहे मतदाता के नाम में कोई आपत्ति हो तो सात दिनों के अंदर अपना आपत्ति दर्ज करा सकते है।

एसडीओ सह निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी ने राजनीतिक पार्टी प्रतिनिधियों को महिला मतदाताओं जिनकी उम्र 18 प्लस है उनका नाम मतदाता सूची में दर्ज कराने में सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की। उन्होंने अपने स्तर से भी मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम 2022 का प्रचार – प्रसार अपने स्तर से करने का अपील किया। बैठक में मान्यता प्राप्त पार्टियों के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।