अनुभवी फील्ड वर्करों को ट्रस्ट से जोड़ने का कार्य शुरू : चैताली

औषधीय एवं फूलों की खेती को दिया जाएगा बढ़ावा

गुमला। स्वयंसेवी संस्था मयूरी ट्रस्ट के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं की बैठक संपन्न हुई ।बैठक की अध्यक्षता ट्रस्ट के सचिव चैताली सेनगुप्ता ने की। बैठक में मयूरी ट्रस्ट के द्वारा संचालित कार्यक्रमों की समीक्षा की गई और नए सत्र में कृषि कार्य को बढ़ावा देते हुए औषधीय एवं फूल की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया गया।बैठक को संबोधित करते हुए ट्रस्ट के सचिव चैताली सेन गुप्ता ने कहा कि औषधीय एवं फूलों की खेती कर किसानों को प्रोत्साहित किया जा सकता है। औषधिय और फूलों की खेती कर किसान आर्थिक स्वालंबन की दिशा में आगे कदम बढ़ाए। बैठक में ट्रस्ट के समन्वयक बसंत कुमार गुप्ता ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि औषधीय खेती आज के युग की आवश्यकता है।पारंपरिक फसलों के साथ किसान औषधीय खेती को बढ़ावा दें जिससे कि उन्हें अधिक मुनाफा हो सके। ट्रस्ट के समन्वयक बसंत कुमार गुप्ता ने औषधीय एवं फूलों की खेती को बढ़ावा देने के लिए सभी प्रखंड के किसानों को आगे आने की अपील की है। इसके साथ ही मशरूम उत्पादन के लिए भी किसानों को आगे बढ़कर कार्य करने का जरूरत है। उन्होंने कहा कि किसानों की मदद के लिए मयूरी ट्रस्ट के द्वारा औषधीय एवं फूलों की खेती के लिए किसानों को उचित मूल्य पर बीज आदि उपलब्ध कराए जाएंगे। वही मशरूम उत्पादन के लिए किसान मयूरी ट्रस्ट से डायरेक्ट संपर्क कर बीज प्राप्त कर सकेंगे। बैठक में कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए ट्रस्ट के कार्यकर्ता एवं सभी पदाधिकारियों से कोरोना वैक्सीन लेने के लिए लोगों को जागरूक करने की अपील की गई। ट्रस्ट के सचिव चैताली सेनगुप्ता ने कहा कि ट्रस्ट में अनुभवी हार्ड वर्करों को जोड़ने का कार्य चल रहा है जिसके माध्यम से कृषि एवं अन्य कार्य किए जाएंगे। ट्रस्ट के अनुभवी हार्ड वर्करों को कार्य के आधार पर सम्मानित प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट के विस्तार के लिए जानकार एवं अनुभवी लोगों को जोड़ने का कार्य किया जा रहा है इसका उद्देश्य है लोगों को स्वरोजगार से जोड़ना। बैठक में औषधीय एवं फूलों की खेती के साथ ही मशरूम उत्पादन तथा मुर्गी बत्तख चूजा उत्पादन के संदर्भ में चर्चा किया गया। बैठक में ट्रस्ट के विभिन्न प्रखंड के कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी गण मौजूद थे।