फूड सेफ्टी फूड फोर्टिफिकेशन एवं हाइजीन रेटिंग से संबंधित कार्यशाला संपन्न

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट

सरायकेला। समाहरणालय स्थित सभागार में उपायुक्त अरवा राजकमल के उपस्थिति में मंगलवार को फूड सेफ्टी फूड फोर्टिफिकेशन एवं हाइजीन रेटिंग से संबंधित एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में अनुमंडल पदाधिकारी सरायकेला रामकृष्ण कुमार, एडीपीओ प्रकाश कुमार,खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी मोइन अख्तर, एसएमपीओ नंदन उपाध्याय , जिले के सभी सीडीपीओ, बीईईओ एवं कस्तूरबा विद्यालय के वार्डन सहित विभागीय पदाधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।अनुमंडल पदाधिकारी ने फूड सेफ्टी एवं फूड फोर्टिफिकेशन हाइजीन रेटिंग से संबंधित जानकारी साझा करते हुए उपस्थित पदाधिकारीगण से अपने परिवार एवं अपने आसपास तथा अपने कार्यालय में फूड सेफ्टी एवं उसके मानकों से संबंधित जानकारी साझा करने को कहा। खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी मोइन अख्तर ने पीपीटी के माध्यम से फूड सेफ्टी, फूड फोर्टिफिकेशन हाइजीन रेटिंग एवं खाद्य सुरक्षा से संबंधित प्राप्त दिशा निदेशो को विस्तार पूर्वक साझा किया। उन्होंने बताया कि जिले में 500 से अधिक संख्या में दुकान दारों को फूड लाइसेंस दिया जा चुका है। दुकानों में अच्छे खाद्य पदार्थ की बिक्री हो यह सुनिश्चित करने हेतु मोबाइल वाहन के माध्यम समय-समय पर जांच किया जा रहा है। अभियान चलाकर गुणवाता एवं हाइजीन रेटिंग की जांच करते हुए दर्जनों दुकानो पर कार्रवाई की गई है। फूड फोर्टिफिकेशन के अंतर्गत आने वाले खाद्य सामग्रियों की भी जानकारी दी तथा खाद्य सामग्रियों की खरीदारी करते समय फूड फोर्टिफिकेशन के लोगो की पहचान कर सामग्री खरीदने हेतु अपील की। ऐसे संस्था जहां अधिक संख्या में लोगों की खाना बनाए जा रहे हो जैसे जेल, आवासीय विद्यालय, अस्पताल इत्यादि में किचन की महत्वता, किचन की साफ सफाई तथा सुरक्षा मानकों से संबंधित जानकारी बताते हुए हाइजीन मेंटेन करने की अपील की। होटल रेस्टोरेंट में हाइजीन रेट के लिए कम कैंपियन किया जा रहा था जिसमें 6 दुकानदारों, रेस्टोरेंट को रेटिंग के अनुसार चयनित किया गया है।सभी चयनित संचालको को रेटिंग के अनुसार उपायुक्त द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। उपायुक्त ने सभी संचालकों को धन्यवाद दिया उन्होंने कहा कि रेटिंग सर्टिफिकेट अपने होटल रेस्टोरेंट में हाईलाइट करें ताकि अन्य दुकानों, रेस्टोरेंट्स संचालकों को भी हाइजीन ग्रेटिंग हेतु प्रेरित किया जा सके। उपायुक्त ने कहा कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य फूड फोर्टिफिकेशन के संबंध में जानकारी साझा करना है ताकि गुणवत्तापूर्ण खाद्य सामग्री के संबंध में लोगो को जानकारी दी जा सकें। जिले में खाद्य सामग्रियों की बिक्री करने वाले दुकानदारों से अपील करते हुए कहा एक्सपायरी डेट, मिलावटी एवं खुले सामग्रियों की बिक्री ना करें।
उपायुक्त ने जिले वासियों से अपील करते हुए कहा कि ऐसे दुकानदार या ऐसे संस्था जो एक्सपायरी डेट, मिलावटी सामग्रियों की बिक्री करते हैं या ऐसे प्रोडक्ट जिसमें सामग्री के गुणवाता एवं क्वांटिटी लाइसेंस नंबर डेट इत्यादि अंकित ना हो की बिक्री कर रहे हो तो इसकी सूचना स्थानीय थाना, प्रखंड कार्यालय या खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी को दें ताकि ससमय जांच उपरांत खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत उन पर कार्रवाई सुनिश्चित की जा सके।