विश्व आदिवासी दिवस मांझी परगना सरदार महासभा ने धूमधाम से मनाया

जामताड़ा : स्थानीय गांधी मैदान में माँझी परगना सरदार महासभा की ओर से मंगल सोरेन के अध्यक्षता में विश्व आदिवासी दिवस हर्ष उल्लास के साथ मनाया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से अतिथि के रूप में पुर्व विधायक सह ऑल इंडिया स्टुडेंट्स युनयन के संस्थापक सुर्य सिंह बेसरा ने अपने वक्तव्य में वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य में आदिवासियों की भूमिका के संदर्भ में प्रकाश डाला। महिला सशक्तिकरण को लेकर पुर्व जिला परिषद अध्यक्ष पुष्पा सोरेन ने संबोधन किया एवं पाँचवी अनुसूची व पैसा कानून को लेकर समाज सेवी सरजन हाँसदा ने अपने विचार प्रस्तुत किया। मौके पर मंगल सोरेन ने कहा कि हर वर्ष के भांति इस वर्ष भी कोविड 19 महामारी को ध्यान में रखते हुए कार्यक्रम को संक्षिप्त किया गया है। इस कार्यक्रम का सफल संचालन सुधीर किस्कू ने किया तथा मुख्य रूप से कार्यक्रम में बलदेव मुर्मू सूकेन्द्र टुडू नाजीर सोरेन रबी हेम्बरम जिला परिषद सदस्य जिमोली बास्की रामलाल मरांडी लथा मुर्मू व संजीत हेम्बरम ने सभा को संबोधित किया। इस दौरान विश्व आदिवासी दिवस पर कई प्रस्ताव पारित किया गया। जिसमें संतली भाषा को अविलंब राज्य भाषा का नाम मिले महान नायक सिधू कान्हू मुर्मू को स्वतंत्रता सेनानी का दर्जा मिले सीएनटी एसपीटी एक्ट का कड़ाई से लागू हो स्थानीयता का आधार एकमात्र 1932 का सर्वे खतियान ही हो।