डीसी ने बुलाई नगर परिषद बोर्ड की आपात बैठक

बोर्ड के बैठक हुए बिना नहीं पारित होगी कोई भी योजना : डीसी

जितेंद्र कुमार

रामगढ़। नगर परिषद बोर्ड के सदस्यों के साथ बुधवार की शाम डीसी संदीप सिंह ने एक आपात बैठक की। इस बैठक में बोर्ड के 28 सदस्यों द्वारा की गई शिकायत का मुद्दा गरमाया रहा। बैठक में नगर परिषद अध्यक्ष योगेश बेदिया और उपाध्यक्ष मनोज महतो के खिलाफ सभी सदस्यों ने जमकर शिकायत की। यहां तक कि सदस्यों ने यह भी कहा कि नगर परिषद की योजनाएं बोर्ड की बैठक में पारित नहीं होती हैं। योजनाओं पर अध्यक्ष और उपाध्यक्ष खुद ही साइन करके टेंडर कर देते हैं। इसके अलावा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष महिला प्रतिनिधियों के साथ भी अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं। इस मुद्दे पर डीसी ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों को ही फटकार लगाई और पदाधिकारियों को सख्त निर्देश दिया की जितनी भी योजनाएं नगर परिषद में चल रही है उसमें बोर्ड के सभी सदस्यों की सहमति जरूरी है। कोई भी टेंडर तभी पारित होगा जब उसे बोर्ड की बैठक में पारित किया जाएगा। कोई भी योजना तभी शुरू होगी जब बोर्ड की बैठक में उस पर मुहर लगेगी। डीसी ने नगर परिषद में चल रहे कार्यों की समीक्षा की और यह पाया कि गड़बड़ी की वजह से ही वार्ड सदस्यों ने विरोध शुरू किया है। इसके अलावा पदाधिकारियों और बोर्ड के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के मनमानी रवैया से ही समस्या इतनी बड़ी हो गई है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि नगर परिषद बोर्ड में किसी की भी मनमानी नहीं चलेगी। उन्होंने वार्ड पार्षद जयंती देवी का भी मुद्दा उठाया। जयंती देवी के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया था। उन्होंने कहा कि कोई भी जनप्रतिनिधि या पदाधिकारी अभद्र भाषा का प्रयोग नहीं करेगा।
रामगढ़ डीसी संदीप सिंह ने कहा कि ने कहा कि नगर परिषद बोर्ड के सदस्यों ने उनसे अपील की थी कि वे सभी पदाधिकारियों और वार्ड पार्षदों के साथ बैठक करें। उसी बैठक में समस्या का समाधान हो सकता है। क्योंकि नगर परिषद बोर्ड की बैठकों में उन सदस्यों की बातों को कोई तवज्जो नहीं मिलती थी। उनकी अपील के बाद ही नगर परिषद बोर्ड की समीक्षा हुई और बैठक में गलत रवैया को साफ तौर पर बंद करने का निर्देश दिया गया है। बैठक में एसडीओ अनंत कुमार, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी आशीष कुमार, नगर परिषद अध्यक्ष योगेश बेतिया, उपाध्यक्ष मनोज महतो के साथ सभी वार्ड पार्षद और विभाग के पदाधिकारी मौजूद थे।