डीडीसी ने फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत एमडीए कार्यक्रम का किया शुभारंभ

जिले भर में दिनांक 23 अगस्त 2021 से 27 अगस्त 2021 तक चलाया जाएगा मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम

गढ़वा से नित्यानंद दुबे की रिपोर्ट

गढ़वा: सोमवार को गढ़वा के उप विकास आयुक्त सत्येंद्र नारायण उपाध्याय ने फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत मांस ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन का सदर अस्पताल गढ़वा में उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में सिविल सर्जन डॉ कमलेश कुमार सहित सदर अस्पताल गढ़वा के चिकित्सक भी उपस्थित थे।

उप विकास आयुक्त के द्वारा दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। दिनांक 23 अगस्त से 27 अगस्त जिले में मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन अभियान चलाया जाएगा । जिसके अंतर्गत 23 अगस्त से 25 अगस्त तक आंगनबाड़ी केंद्र, स्वास्थ्य उप केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, वार्ड कार्यालय एवं अन्य सार्वजनिक स्थानों को बूथ के रूप में चिन्हित कर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए दवा का सेवन कराया जाएगा। इसके बाद 26 एवं 27 अगस्त को बची हुई लक्षित आबादी को घर-घर जाकर डी.ई.सी. एवं अल्बेंडाजोल की गोली खिलाई जाएगी।

कार्यक्रम में बोलते हुए उप विकास आयुक्त ने कहा कि इस बात से सभी अवगत हैं कि फाइलेरिया एक गंभीर बीमारी है। जिसकी वजह से प्रभावित अंग जैसे- हाथ, पांव का फूलना और हाइड्रोसिल का बढ़ना होता है। हाइड्रोसील के रोगी का उपचार ऑपरेशन द्वारा संभव है परंतु फाइलेरिया ग्रसित रोगी अपने पूरे जीवनकाल तक इस बीमारी से ग्रसित रहते हैं और उन्हें सामाजिक उपेक्षा का सामना करना पड़ता है। उप विकास आयुक्त ने अपील कर कहा कि फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन अवश्य करें और गढ़वा जिले को फाइलेरिया मुक्त बनाने में सहयोग करें।

कार्यक्रम में उपस्थित सिविल सर्ज ने बताया कि गढ़वा जिले में कुल जनसंख्या 15 लाख 50 हजार 810 के विरुद्ध लक्षित जनसंख्या (टारगेटेड पांपुलेशन) 13 लाख 64 हजार 713 है, जिन्हें फाइलेरिया रोधी दवा देने का लक्ष्य रखा गया है। इस उद्देश्य से जिले में कुल 1354 बूथ बनाए गए हैं जिसमें कुल 3057 कर्मी एवं 297 सुपरवाइजर कार्यरत हैं। आगे उन्होंने बताया कि इस अभियान में लगभग 38 लाख 77 हजार 25 डीईसी एवं 15 लाख 50 हजार 810 अल्बेंडाजोल की खपत की संभावना जताई जा रही है। डॉ कमलेश ने बताया कि उक्त कार्यक्रम के तहत जिले के लक्षित जनसंख्या (2 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं एवं गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को छोड़कर) को वर्ष में एक निश्चित तिथि को उम्र के अनुसार डीईसी एवं अल्बेंडाजोल गोली की एकल खुराक खिलाई जाएगी। खाली पेट दवा का सेवन नहीं करना है। उन्होंने कहा कि समाज में इस रोग के प्रति लापरवाही एवं अनभिज्ञता के कारण यह रोग भयावह हो जाता है और ग्रसित व्यक्ति सामान्य जीवन जीने में असमर्थ हो जाता है ऐसे में जिले वासियों से अपील है कि वे स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन का सहयोग करते हुए इस अभियान को सफल बनाएं।

सदर अस्पताल गढ़वा में आयोजित कार्यक्रम में उप विकास आयुक्त श्री सत्येंद्र नारायण उपाध्याय के अलावा सिविल सर्जन गढ़वा डॉ कमलेश कुमार, डॉक्टर संध्या टोपनो, डॉ एसके रमन, डॉक्टर संतोष कुमार मिश्रा, डॉ नाथुन साह, जिला वीवीडी कंसलटेंट अरविंद द्विवेदी, सदर अस्पताल के कर्मी समेत अन्य उपस्थित थे।