उपायुक्त ने की आकांक्षी जिला योजना कार्यक्रम की समीक्षा

गोड्डा: आज समाहरणालय सभागार में उपायुक्त भोर सिंह यादव की अध्यक्षता में नीति आयोग द्वारा संचालित आकांक्षी जिला योजना कार्यक्रम की समीक्षात्मक बैठक की गई। बैठक में उपायुक्त द्वारा पूर्व में की गई बैठक की कार्यवाही की बिंदुवार समीक्षा करते हुए महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा करते हुए संबंधित पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए । उक्त बैठक में स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा, कृषि, समाज कल्याण, पशुपालन, जेएसएलपीएस, कौशल विकास, आधारभूत संरचना में प्रगति आदि योजनाओं से संबंधित अधिकारियों से योजनाओं की अद्यतन प्रगति पर विस्तार पूर्वक चर्चा की गई।

उपायुक्त भोर सिंह द्वारा कृषि से संबंधित प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारी को अपने परफॉर्मेंस को और भी बेहतर करने के निर्देश दिए गए। समीक्षा के दौरान जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक गोड्डा से मृदा स्वास्थ्य कार्ड को लेकर जानकारी मांगी गई। मुद्रा लोन, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना साथ ही साथ नीति आयोग के अंतर्गत लोन संबंधी मामलों पर विशेष रूप से चर्चा कर जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक, गोड्डा को परफॉर्मेंस बेहतर करने के निर्देश दिए। नीति आयोग के जिला स्तरीय अनुश्रवन के समीक्षा क्रम में में पाया गया कि जिले में स्कूली बच्चों का Transaction rate V से VI में काफी गिरावट देखने को मिल रही है। जिसको लेकर महोदय ने शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों को आवश्यक निर्देश देते हुए कहा कि यह सुनिश्चित कराया जाय कि पांचवीं में अध्ययनरत बच्चों का नामांकन संबंधित प्रधानाध्यापक छठी कक्षा में करायेगें एवं संबंधित प्रधानाध्यपक सुनिश्चित करेगें कि सभी बच्चों का नामांकन हो गया है।

उपायुक्त ने कॉमन सर्विस सेंटर पर भी चर्चा की कर CSC मैनेजर को आवश्यक निर्देश दिए। उक्त बैठक में जिला समाज कल्याण के कार्यों पर भी प्रकाश डाला गया। टेक होम राशन विषयों पर चर्चा कर उपायुक्त ने कार्य को बेहतर करने के निर्देश जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को दिए । स्वास्थ्य विभाग के कार्यों पर भी विशेष रूप से चर्चा कर पेंडिंग पड़े कार्यो को पूरा करने का निर्देश सिविल सर्जन गोड्डा को दिया गया। जिले में लिंगानुपात के विसंगतियों पर भी उपायुक्त के द्वारा विस्तारपूर्वक चर्चा की गई। उपायुक्त ने चिंता जाहिर करते हुए बताया कि लिंगानुपात मे कमी की घटना जिले के लिए चिंता की बिषय है। संबंधित पदाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अवैध अल्ट्रासाउंड क्लीनिकों के विरुद्ध छापेमारी कर वैसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करें। अस्पतालों में चलाए जा रहे ममता वाहन को लेकर महोदय के द्वारा जानकारी प्राप्त की गई। जिस पर उपायुक्त ने स्वास्थ विभाग के अधिकारियों से कहा कि ममता वाहनों के भुगतान संबंधी मामला पेंडिंग ना रहे इसपर खासा ध्यान रखें। स्किल डेवलपमेंट संबंधित विषय पर भी विस्तार पूर्वक चर्चा की गई।

बैठक में उपविकास आयुक्त चंदन कुमार, सिविल सर्जन डॉ0 मंटू टेकरीवाल, कृषि पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला सूचना एवं विज्ञान पदाधिकारी, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, JSLPS के DPM, अन्य पदाधिकारी गण, एडीपीओ गोड्डा, नीति आयोग के कोषांग प्रभारी, संबंधित विभाग के अधिकारी/कर्मी, सहित अन्य मौजूद थे।