राजनगर प्रखंड क़े खैरबनी गाँव में रखी गई एकलव्य आदर्श मॉडल आवसीय विद्यालय की नीव

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, परिवहन मंत्री झारखण्ड, चम्पई सोरेन, कोल्हान सांसद श्रीमती गीता कोड़ा एवं उपायुक्त ने संयुक्त रूप से एकलव्य आदर्श मॉडल विद्यालय का किया शिलान्यास

सरायकेला। सरायकेला खरसावां जिले के राजनगर प्रखंड अंतर्गत खैरबानी गाँव में एकलव्य आदर्श मॉडल विद्यालय क़े निर्माण हेतु शिलान्यास कार्यक्रम का आयोजन शनिवार को किया गया। सर्वप्रथम उपायुक्त अरवा राजकमल ने केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, राज्य के कल्याण एवं परिवहन मंत्री चंपई सोरेन एवं पश्चिम सिंहभूम सांसद श्रीमती गीता कोड़ा को पुष्पगुच्छ एवं सॉल देकर कार्यक्रम में स्वागत किया। इसके तत्पश्चात सभी अतिथि एवं जॉइंट सेक्रेटरी भारत सरकार तथा उपायुक्त ने संयुक्त रूप से शिलान्याश पट का उद्घाटन किया।
मौके पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा 50% से अधिक अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति की आबादी और कम से कम 20,000 आदिवासी व्यक्तियों वाले प्रत्येक प्रखण्ड में एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय बनेगा। उन्होंने कहा एकलव्य स्कूल में अनुसूचित जनजाति छात्रों (कक्षा 6 से 12 वीं) के लिए प्राथमिक से लेकर 12 वीं स्तर की शिक्षा प्रदान करने के लिए शुरू किया जायेगा। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि उन्हें सर्वश्रेष्ठ तक पहुंचने में सक्षम बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय की तर्ज पर एकलव्य स्कूलों को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जायेगा। इसके तहत राज्य में एक पहचाने गए व्यक्तिगत खेल और एक समूह के खेल के लिए अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। खेल के लिए इन सीओई में भारतीय खेल प्राधिकरण के मानदंडों के अनुसार अत्याधुनिक प्रशिक्षण, विशेष प्रशिक्षण, बोर्डिंग और ठहरने की सुविधा, खेल किट, खेल उपकरण, प्रतियोगिता प्रदर्शन, बीमा, चिकित्सा व्यय आदि के साथ-साथ अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने राजनगर प्रखंड क्षेत्र में निवास करने वाले अभिभावकों से अपील करते हुए कहा कि विद्यालय के निर्माण, विद्यालय के विकास एवं छात्रों को विद्यालय तक कैसे पहुंचाएं इसमें समिति एवं प्रशासन का सहयोग करें। उन्होंने आगे कहा इस विद्यालय का उद्देश्य सिर्फ अच्छे भवन एवं अच्छे सुविधाएं प्रदान करना नहीं बल्कि छात्रों को इस विद्यालय से अच्छे विद्यार्थी एवं खिलाड़ी के रूप में विकसित करना है।
उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु अपने नजदीकी टीकाकरण केंद्र में आकर कोविड-19 लेने हेतु सभी से अपील किया। उन्होंने कहा करोना संक्रमण के संभावित वेरिएंट से बचाव एवं अपने परिवार की सुरक्षा हेतु कोविड-19 का टीका लेना आवश्यक है।
कार्यक्रम में उपस्थित कल्याण एवं परिवहन मंत्री सह सरायकेला विधायक चंपई सोरेन ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजनगर प्रखंड के क्षेत्र को ऐतिहासिक बताया उन्होंने कहा इस ऐतिहासिक स्थल पर आज आदिवासी बच्चों के लिए शिक्षा की नींव रखी जा रही है। उन्होंने कहा शिक्षा के बगैर समाज का विकसित नहीं किया जा सकता, न देश के मुख्य धारा तक समाज को ले जाया जा सकता है। उन्होंने आगे कहा विद्यालय में आने जाने हेतु सड़क से जोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा जिस उद्देश्य से विद्यालय का निर्माण किया जा रहा है उस उद्देश्य को पूर्ण करने हेतु क्षेत्र के आमजन का सहयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा आज आदिवासी छात्र छात्राओं के शिक्षा हेतु एकलव्य विद्यालय की नीव रखी जा रही है, आज का दिन ऐतिहासिक है इसी विद्यालय से आदिवासी परिवार के छात्र-छात्राओं अपने शिक्षा का नींव रखते हुए राज्य एवं देश तक नाम रोशन करने हेतु शिक्षा प्रारंभ करेंगे। उन्होंने कहा ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा को बढ़ावा दिया जा रहा है जिससे देश में झारखंड राज्य की एक अलग पहचान हो सके।
सांसद श्रीमती गीता कोड़ा ने कार्यक्रम को संबोधित करते कहा- एकलव्य आदर्श मॉडल विद्यालय का शिलान्याश हमारे क्षेत्र के लिए वरदान है। उन्होंने माननीय केंद्रीय मंत्री के द्वारा आदिवासी परिवार के बच्चों के शिक्षा क़े लिए उनके समृद्धि के लिए कार्य करने और क्षेत्र में विद्यालय की नीव रखने हेतु धन्यवाद कहा। उन्होंने कहा अब अभिभावक के रूप में हम सभी की यह जिम्मेवारी बनती है कि विद्यालय की सुविधाओं का कैसे लाभ लें, विद्यालय तक अपने बच्चों को कैसे लाएं, उन्हें भटकने से कैसे बचाएं?
उन्होंने आगे कहा आदिवासी परिवारों के लिए यह एक अच्छा प्रोजेक्ट है। जिसे समय पर पूर्ण कर जनता को समर्पित किया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा मैं उम्मीद करती हूं कि जिस तरह से अन्य एकलव्य विद्यालयों ने अपने नाम रोशन किए हैं उसी तरह यह विद्यालय भी आगे चलकर क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा में आगे बढ़ाएं और बच्चे झारखंड के विकास में अपना सहयोग दे सकें।
उपायुक्त अरवा राजकमल ने कहा उपायुक्त के रूप में मुझे अधिक खुशी है कि सुदूरवर्ती गांव में आदिवासी परिवार के छात्रों के शिक्षा के लिए एकलव्य आदर्श मॉडल विद्यालय की नींव रखी जा रही है। उन्होंने कहा विद्यालय के निर्माण कार्य एवं कार्य में आ रही बाधाओं को दूर करने हेतु सामान्य प्रशासन या पुलिस प्रशासन की ओर से व्यक्तिगत रूप से रूचि लेते हुए सभी पदाधिकारी कार्य करेंगे। उपायुक्त ने कहा पूर्व से संचालित अन्य जिलों में एकलव्य विद्यालय से क्षेत्र में आदिवासी परिवार के छात्र-छात्राओं में भौगोलिक परिस्थिति में काफी बदलाव देखने को मिला है उम्मीद रहेगा कि इस विद्यालय से हमारे क्षेत्र में भी भौगोलिक परिवर्तन देखने को मिलेगा।
कार्यक्रम में उपरोक्त के अलावा उप विकास आयुक्त प्रवीण कुमार गागराई, आईटीडीए निदेशक संदीप कुमार दोराईबुरु, अनुमंडल पदाधिकारी सरायकेला तथा संबंधित पदाधिकारी एवं अन्य उपस्थित रहे।