लकड़ी की तस्करी जारी

महेशपुर : इन दिनों महेशपुर थाना क्षेत्र बना है लकड़ी तस्करी का सेफ जाॅन । रात के अँधेरे हो या फिर दिन के उजाले में बेखौफ होकर लकड़ी माफिया द्वारा छोटी बड़ी वाहन से लाद कर लकड़ी को तस्करी करते हैं और सीधा बंगाल के हवाले कर जाते हैं । क्षेत्र के ग्रामीणों की माने तो माफिया की इतना बढ़िया सेटिंग है की रास्ते पर कोई टोकता तक नहीं है और किसी ग्रामीण की शिकायत पर सुचना मिलते हैं तो विभागीय कर्मी द्वारा लकड़ी माफिया से मिलकर सेटिंग कर मिलीभगत से लकड़ी को पार करा देते हैं और शिकायत कर्ता को उल्टा डांट डपट कर चुपचाप करा देते है । ग्रामीण ने बताते हैं की शहरग्राम से पिर पहाड़ के रास्ते होते हुये अक्सर लकड़ी की तस्करी होती है और जब प्रशासन की नजर पड़ता है तो बात चित तय कर लकड़ी पार करा देते है जो सीधा गोंदे बंगाल के ढ़ोढ़िया गोपालपुर से राजग्राम पहुँच जाता है और मोटी रकम में बेच कर बड़ी आशानी से जेब भरकर फिर दुसरा ट्रिप के लिए जुट जाते है । इतना ही नहीं इधर चंडाल मारा के रास्ते होते हुये भी लकड़ी पार कर विभिन्न गुप्त रास्ता के सहारे पश्चिम बंगाल को ले जाते है साथ ही हाथीमारा कुतुब पुर होते हुये भी लकड़ी तस्करी होती एवं प्रखंड दमदमा, अभुवा ,खगड़ा समेत कई इलाके में लकड़ी की तस्करी चर्म पर है स बताया जाता है की लकड़ी माफिया वन जंगल को काट कर एवं ग्रामीण इलाके के भोलेभाले आदिवासी लोगो को बहला फुसला कर चन्द रूपये की लालच देकर बड़ा बड़ा पेड़ काट कर बोटा बनवाते है और वाहन के माध्यम से तस्करी में जुट गए है जिसको न तो कानून की डर है और न ही प्रशासन की डर भी तो काहे करे जो कुछ दलाल किस्म के लोगो को चढ़ावा देकर धंधा को खुलेआम तौर पर चला रहा है स खैर इस मामले को लेकर प्रशासन सजग रहने की जरुरत है ताकि वन जंगल की कटाई पर रोक लग सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *