एनएसएस का सात दिवसीय विशेष कैंप प्रारंभ

जावेद अख्तर की रिपोर्ट
हनवारा: बुधवार को एनएसएस के तत्वावधान में सात दिवसीय विशेष शिविर प्राथमिक विद्यालय भोजुचक में मिल्लत कॉलेज परसा के शिक्षकों के द्वारा पर्यावरण बचाओ भविष्य बचाओ को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का क्रियान्वयन मिल्लत कॉलेज परसा के एनएसएस विभाग द्वारा किया गया। साथ ही प्राचार्य डॉ तुषारकांत ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। साथ ही मंच का संचालन एनएसएस कार्यक्रम पदाधिकारी प्रो अशरफ करीम कर रहे थे। कार्यक्रम में एनएसएस स्वंयसेवकों एवं गांव के अनेक छात्र एवं छात्राएं सम्मिलित हुए। हम अगर हमारे चारों और देखे तो ईश्वर की बनाई इस अद्भुत पर्यावरण की सुंदरता देख कर मन प्रफुल्लित हो जाता है पर्यावरण की गोद में सुंदर फूल, लताये, हरे-भरे वृक्षों, प्यारे – प्यारे चहचहाते पक्षी है, जो आकर्षण का केंद्र बिंदु है आज मानव ने अपनी जिज्ञासा और नई नई खोज की अभिलाषा में पर्यावरण के सहज कार्यो में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है जिसके कारन हमारा पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है हम हमारे दोस्तों परिवारों का तो बहुत ख्याल रखते हैं परंतु जब पर्यावरण की बात आती है तो बस गांधी जयंती, या फिर स्वच्छ भारत अभियान, के समय ही पर्यावरण का ख्याल आता है लेकिन यदि हम हमारे पर्यावरण का और पृथ्वी के बारे में सोचेंगे इस प्रदूषण से बच सकते हैं। विश्व पर्यावरण संरक्षण अधिनियम संयुक्त राष्ट्र में पर्यावरण के लिए मनाया जाता है और यह एक उत्सव की तरह होता है। इस दिन पर्यावरण के संरक्षण के लिए जगह-जगह वृक्षारोपण किया जाता है हमारे देश में अक्सर ऐसा होता है कि कोई भी बड़ा कार्य होता है तो हम उम्मीद करते हैं कि वह सरकार करेगी जैसे पर्यावरण संरक्षण दुर्भाग्य से कुछ लोग मानते हैं कि केवल सरकार और बड़ी कंपनियों को ही पर्यावरण संरक्षण के लिए कुछ करना चाहिए परंतु ऐसा नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति अगर अपनी अपनी जिम्मेदारी समझे तो सभी प्रकार की कचरा ,गंदगी और बढ़ती आबादी के लिए स्वयं उपाय करके पर्यावरण संरक्षण में अपनी भागीदारी दे सकता है, लेकिन प्रगति के नाम पर पर्यावरण को मानव ने ही विकृत करने का प्रयास किया है, पर्यावरण व्यापक शब्द है जिसका सामान्य अर्थ प्रकृति द्वारा प्रदान किया गया समस्त भौतिक और सामाजिक वातावरण इसके अंतर्गत जल, वायु, पेड़, पौधे, पर्वत, प्राकृतिक संपदा सभी पर्यावरण सरक्षण के उपाए में आते है। ‘गो ग्रीन‘ कहने के लिए नहीं बल्कि करने में ज्यादा आसान होता है, आज पर्यावरण का ध्यान रखना हर व्यक्ति का कर्तव्य और जिम्मेदारी है। कार्यक्रम के उपरांत पर्यावरण संरक्षण के मद्देनजर पौधरोपण किया गया। वहीं इस मौके पर प्रो. संदीप कुमार, प्रो. कपिलदेव, प्रो. मोजाहिद, मु अब्दुल्लाह अली, मु जफीरुद्दीन एवं मु इफ्तेखार सहित दर्जनों छात्र एवं छात्राएं उपस्थित थे।