“सुगमता, कानून और इनके क्रियान्वयन ” विषय पर वेबीनार का आयोजन

रांचीः भारत सरकार के सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के अंतर्गत कार्यरत समेकित पुनर्वास केंद्र रांची के द्वारा दिव्यांग जनों के लिए “सुगमता, कानून और इनके क्रियान्वयन ” विषय पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि व वक्ता के तौर पर राष्ट्रीय बौद्धिक दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग क्षेत्रीय केंद्र नवी मुंबई के व्याख्याता श्री रवि प्रकाश सिंह उपस्थित थे।

विषय विशेषज्ञ ने बताया कि सुगमता का तात्पर्य वैसे अनुकूल वातावरण का निर्माण से है जिसमें किसी भी प्रकार विकलांगता से ग्रसित व्यक्ति जीवन के हर क्षेत्र में सामान्य व्यक्तियों की तरह अपनी भागीदारी प्रस्तुत कर सके और विकास के मुख्यधारा में जुड़ सकें चाहे वह चलने फिरने से संबंधित चुनौती युक्त व्यक्तियों के लिए ढांचागत वातावरण से संबंधित सुगमता हो या दृष्टिबाधित लोगों के लिए सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की सुगमता की जरूरत हो या श्रवण बाधित लोगों के लिए सांकेतिक भाषा की उपलब्धता की हो।

सुगमता की जरूरत दिव्यांग जनों के साथ वृद्धजनों को भी होती है इसलिए हमें ऐसे वातावरण का निर्माण करना है जो हर एक व्यक्ति के लिए अनुकूल हो। उन्होंने सुगमता से संबंधित कानूनों के बारे में संक्षिप्त परिचय देते हुए कहा की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पारित यूनिवर्सल डिज़ाइन के संकल्पना पर कार्य करने की जरूरत है। भा”रत सरकार द्वारा लॉन्च किए गए “सुगम्य भारत अभियान” संबंध में भी जानकारी प्रदान की गई।

” सुगम्य भारत अभियान” मोबाइल ऐप के प्रयोग करने के बारे में बताया गया जो कि मुख्य तौर पर सुगमता से संबंधित सुझाव , शिकायत ओवर जानकारियों के लिए भारत सरकार के दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के द्वारा बनाया गया है जो कि सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत है।

SVNIRTAR कटक के निदेशक डॉ एस पी दास के संरक्षण व नोडल अधिकारी श्री प्रमोद तिग्गा के सहयोग , और श्री जीतेंद्र यादव निदेशक CRC रांची के संयोजन में यह कार्यक्रम आयोजित की गई। कार्यक्रम सुश्री प्रीति तिवारी (सहायक प्राध्यापक विशेष शिक्षा ) श्री राजेश रंजन, व्याख्याता (भौतिक चिकित्सा )श्री। सतीश कुमार (पी एंड ओ) आदि की उपस्थिति मे संम्पन हुआ। कार्यक्रम में झारखंड समेत पूरे देश के सत्तर से अधिक प्रतिभागियों ने अपनी भागीदारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *