परिवार के लिए मांगा सुख-समृद्धि

रामगोपाल जेना
चाईबासा : सदर बाजार स्थित काली मंदिर में शनिवार को मां विपतारिणी की पूजा-अर्चना धूमधाम से भक्तिभाव से कोरोना मापदंडो के अनुरुप की गई। यह पूजा पूरे क्षेत्र में की जाती है। इस दौरान महिलाओं ने मां दुर्गा के विपतारिणी रूप के आगे मत्था टेककर अपने परिवार की सुख- समृद्धि की कामना की। साथ ही एक- दूसरे की मांग में सिंदूर लगाकर सदा सुहागिन बने रहने की कामना की। पुजारी ने भी श्रद्धालु महिलाओं की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर हर विपदा से दूर रहने का आशीर्वाद दिया। पूजा का आयोजन संचालन सदर बाजार के काली मंदिर ट्रस्ट कमेटी द्वारा किया गया। मां की पूजा हर साल महाप्रभु जगन्नाथ जी की रथयात्रा और उनके रथ के पूर्ण यात्रा के बीच में पड़ने वाले शानिवार के दिन की जाती है। यह पूजा पिछले एक सौ पचास वर्षों से भी अधिक समय से की जा रही है। पूजा का आयोजन काली मंदिर में सेवारत राय परिवार द्वारा हुआ। इससे पूर्व महिलाओं ने दिनभर उपवास रखकर विपतारिणी व्रत भी रखा। पूजा दिवेन्दु राय एवं परिमल गांगुली के द्वारा पूरे विधि- विधान से सम्पन्न करवाया गया ।
इस पूजा में तेरह किस्म की सामाग्री और उस सामग्री को तेरह की गिनती से गिनकर मां का भोग लगाया जाता है। भोग में पूड़ी, पुआ, पान, सुपारी, लॉन्ग, इलायची, मूंगदाल, फल, खीर, मिष्ठान चेरी इत्यादि से भोग लगाया जाता है। इस पूजा में सुहािगन महिलाएं सारा दिन उपवास करती हैं। यह पूजा परिवार के मंगल के लिए और परिवार को आपदा से रक्षा के लिए की जाती है। महिलाएं व्रत रखकर मां के दरबार में पहुंची पूजा- अर्चनी की। साथ ही मन्नतें भी मांगी। पूजा के उपरांत व्रतियों अन्य भक्तों के बीच में मां का प्रसाद वितरण किया गया।
मां विपदतारिणी पूजा को सफल बनाने में सव्यसाची राय , सुशांत राय , बिधुत राय , त्रिशानु राय , षष्टि राय , अशोक कुमार राय , देवदास राय , अभिषेक राय , अनूप कुमार राय , अनिर्बान राय , नाडु गोपाल राय
जयंत राय , बिचित्र राय , प्रवीण राय
आदि की महती भूमिका रही ।