श्रमदान कर ग्रामीणों ने बनाया सड़क

आजादी के 77 साल बीत जाने के बाद भी सड़क के बिना जूझ रहे हैं ग्रामीण

इचाक से कुलदीप कुमार की रिपोर्ट

इचाक : ग्राम डाडीघाघर में भारत आजादी से 77 वर्ष बीत चुके हैं एक भी पक्की सड़क इस ग्राम में नहीं है डाडीघाघर के मुखिया श्रीमती सुमन देवी मजा प्रतिनिधि राजेंद्र सिंह भोगता ने सांसद श्रीमती अन्नपूर्णा देवी को दिल्ली जाकर लोकसभा में आवेदन दिए हुए हैं । और विधायक अमित यादव को भी कई बार इस सडक समस्या को लेकर आवेदन दे चुके हैं लेकिन अभी तक कोई पहल नहीं किया गया और ग्राम डाडीघाघर को प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम लिया गया हैं सभी ग्रामीणों को आशा जग चुकी थी कि अब डाडीघाघर ने विकास की किरण शुरू होगा लेकिन देखते-देखते 2 वर्ष बीत चुके हैं ग्राम डाडीघाघर के जनता को उम्मीद आशा टूटी चुके हैं अंत में फरवरी 2020 में 2 किलोमीटर श्रमदान से सड़क बनाया गया था आज भी 1 किलोमीटर श्रमदान से ग्रामीणों ने सड़क मनाया जिसमें दर्जनों ग्रामीण उपस्थित हुए श्रीमती मीठा सुमन देवी, राजेंद्र सिंह भोक्ता और चंद्र सिंह भोक्ता, बिशुन गंजू, शमसुद्दीन मियां, उमेश गंजू, विजय गंजू ,निर्मल गंजू, सत्या देवी , तारो देवी, कमली देवी ,तिलकी देवी के अलावा दर्जनों ग्रामीण उपस्थित थे।