जिले में 75वां स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास के साथ संपन्न

उपायुक्त सहित जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों एवं कर्मियों ने स्वतंत्रता सेनानियों को किया नमन
परमवीर अलबर्ट एक्का स्टेडियम में मुख्य राष्ट्रीय झंडोत्तोलन कार्यक्रम हुआ संपन्न

गुमला से बसंत गुप्ता की रिपोर्ट
गुमला : गुमला जिले में 75वें स्वतंत्रता दिवस पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। 75वें स्वतंत्रता दिवस मुख्य समारोह का आयोजन परमवीर अल्बर्ट एक्का स्टेडियम में किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा ने झंडोत्तोलन किया। उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. एहतेशाम वकारीब ने संयुक्त रूप से परेड का निरीक्षण कर परेड की टुकड़ियों की सलामी ली।
समारोह को संबोधित करते हुए उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा ने 75वें स्वतंत्रता दिवस पर गुमला जिले के समस्त नागरिकों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि आज स्वतंत्रता दिवस के इस पुनीत अवसर पर गुमला, झारखण्ड एवं भारतवर्ष की चतुर्दिक उन्नति की कामना के साथ मैं, स्वतंत्रता संग्राम के समस्त सेनानियों को शत्-शत् नमन करता हूँ, जिनकी कुर्बानियों के परिणाम स्वरूप हमें 15 अगस्त, 1947 को आजादी मिली और देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था की नींव पड़ी। देश की आजादी में गुमला जिले के स्वतंत्रता सेनानियों जैसे- जतरा टाना भगत, मुण्डल सिंह, बख्तर साय, तेलंगा खड़िया एवं अन्य क्रान्तिकारियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गुमला के वीर सपूत लांस नायक परमवीर अल्बर्ट एक्का ने अपनी वीरता एवं बहादुरी का परिचय देते हुए अपने प्राणों की आहूती देकर 1971 के भारत-पाक युद्ध में भारत की गरिमा को अक्षुण रखा। गुमला की धरती आज भी ऐसे महान सपूतों के पराक्रम पर गौरवांवित है। वीर शहिदों की भूमि गुमला जिला के सपूत स्व0 लोहरा उरॉव, स्व0 लूईस लकड़ा, स्व0 अगुस्टिन तिर्की, स्व0 अधारियस बारला, स्व0 बरनालुस मिंज, स्व0 उजीम टोप्पो, स्व0 आई0एम0 हमीम के द्वारा भारत – पाक युद्ध में अपना सर्वोच्च बलिदान देश के खातिर दिया गया। उन्हें जिला प्रशासन की ओर से शत्-शत् नमन।उन्होंने आगे कहा कि अनुसूचित जनजाति बाहुल्य गुमला जिला अन्तर्गत सर्वांगीण विकास की दृष्टिकोण से झारखण्ड सरकार एवं केन्द्र सरकार द्वारा अनेकों जन कल्याणकारी योजनाएँ कार्यान्वित की जा रही है। उन्होंने कहा कि आज कोविड-19 वैश्विक महामारी के विरूद्ध अनवरत क्रियाशील एवं प्रयासरत चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों, स्वच्छता कर्मियों, पुलिस कर्मियों एवं जिला प्रशासन के फ्रन्टलाईन कर्मियों एवं पदाधिकारियों को उनके निरंतर संघर्ष एवं कर्त्तव्य के प्रति दृढ़ निश्चयी रहकर इस वैश्विक महामारी के संघर्ष में समर्पित होकर कर्तव्य निष्पादन करने एवं समस्त गुमला वासियों के द्वारा कोविड व्यवहार के अनुपालन में अपना योगदान देने तथा निरंतर प्रयास के फलस्वरूप कोविड-19 संक्रमण के प्रसार को यथासंभव रोकने में जिला प्रशासन को मदद मिली है। गुमला जिले में अब तक कुल 04 लाख लोगों का कोविड-19 जॉच किया गया जिसमें से 9900 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाये गये। जिले में कोविड-19 के संक्रमण को कम करने के लिए अब तक कुल 18 हजार होम आईसोलेशन किट का वितरण किया गया। उन्होंने बताया कि जिले में अबतक 03 लाख 25 हजार लोगों को कोविड-19 का टीका लगाया जा चुका है। वर्तमान में कोरोना के संभावित तीसरे लहर को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा सदर अस्पताल गुमला में पेडियाट्रिक वार्ड एवं पाईप लाईन के माध्यम से बेडों के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था की गयी है। कोविड संक्रमण की अधिक से अधिक आर0टी0पी0सी0आर0 जॉच हेतु पुग्गू स्थित जिला पंचायत संसाधन केन्द्र को जॉच केन्द्र के रूप में चयनित करते हुए आवश्यक उपकरणों की अधिष्ठापना की कार्रवाई की जा रही है।जिले में ऑक्सीजन संकट से निपटने के लिए सदर अस्पताल परिसर गुमला में पीएसए प्लांट की स्थापना प्रधानमंत्री केयर फण्ड एवं एन0एच0ए0आई0 के सहयोग से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गुमला जैसे कृषि प्रधान जिले की 80 प्रतिशत आबादी कृषि एवं कृषि से जुड़े अन्य कार्यों जैसे बागवानी, मत्स्य पालन, पशुपालन आदि पर निर्भर हैं। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत कुल 98252 लाभुकों को इस योजना के तहत 6000/- रू० प्रतिवर्ष डीबीटी के माध्यम से किसानों के खाते में दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से आच्छादित किसानों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए के0सी0सी0 के तहत कुल 98252 लाभुकों में से 55523 कृषकों को केसीसी से आच्छादित किया जा चुका है। बीज विनिमय एवं वितरण योजना के तहत लैम्पस पैक्स के माध्यम से 50 प्रतिशत अनुदान पर किसानों को खरीफ एवं रबी फसलों का बीज वितरण किया गया है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत किसानों के बीच शत प्रतिशत अनुदान पर 331 क्विंटल विभिन्न प्रकार के बीजों का वितरण कुल 2143 किसानों को किया गया है। धान अधिप्राप्ति योजना के तहत 8360 किसानों के द्वारा निबंधन कराया गया तथा 2683 किसानों से 1,27,772 क्विंटल धान की खरीद की गई। धान की खरीद हेतु जिले में 16 धान अधिप्राप्ति केन्द्र अधिष्ठापित किये गये हैं। मत्स्य क्षेत्र में विकास के लिए मत्स्य बीज उत्पादकों के बीच स्पॉन, फीड, जाल की आपूर्ति की गयी है। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत मत्स्य उत्पादकों को साईकल, मोटरसाईकल एवं तीन पहिया आईस बॉक्स सहित कुल 16 लाभुकों को मुहैया कराया गया है। पशुपालन कार्यक्रम के तहत 7987 पशुओं को कृत्रिम गर्भाधान कराया गया है। इस दौरान 01 लाख 88 हजार पशुओं का चिकित्सा करते हुए 01 लाख 54 हजार पशुओं का टीकाकरण किया गया है। मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के तहत जिला में कुल 124 महिलाओं को दो-दो दुधारू गाय का वितरण किया गया है। इस कार्यक्रम के तहत कामधेनु डेयरी फार्मिंग के तहत 19 लाभुकों को क्रमशः 05 एवं 10 गाय का वितरण हेतु आवश्यक राशि उपलब्ध कराई गई है। जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित मुख्यमंत्री सुकन्या योजना के तहत 567, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत 75, प्रधानमंत्री मातृवन्दना योजना के तहत 348, मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना के तहत 100, स्पॉनसरशिप योजना के तहत 23 लाभुकों के बीच राशि का वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त 1670 ऑगनबाड़ी केन्द्रों में गैस चूल्हा का वितरण किया गया है। डायन कुप्रथा उन्मूलन एवं नशा मुक्त भारत अभियान के तहत प्रचार-प्रसार हेतु रथ एवं पोस्टर के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा सहायता कार्यक्रम के तहत समाज के वयोवृद्ध, विपन्न, विधवा एवं दिव्यांग व्यक्तियों सहित कुल 84918 लाभुकों को सामाजिक सुरक्षा के तहत विभिन्न पेंशन योजना से आच्छादित किया गया है। लाभुकों को माह जुलाई 2021 तक के पेंशन की राशि उनके खाते में हस्तान्तरित कर दी गयी है। राज्य पेंशन योजना के तहत लगभग 43 हजार लाभुकों को पेंशन का भुगतान किया गया है। समेकित जनजाति विकास के अंतर्गत छात्रवृति योजना के तहत जिले में सरकारी विद्यालय में वर्ग 01 से 10 तक पढ़ने वाले कुल 47438 छात्र-छात्राओं को कुल 06 करोड़ 33 लाख 90 हजार रूपये तथा प्री-मैट्रिक और पोस्ट मैट्रिक छात्रवृति योजना के तहत कुल 7556 छात्र-छात्राओं को 11 करोड़ 37 लाख रूपये छात्रवृति का भुगतान किया गया है। इसके साथ ही 42 व्यक्तिगत वन पट्टा एवं 21 सामुदायिक वन पट्टा का वितरण किया गया है। चिकित्सा अनुदान के तहत विभिन्न वर्गों के बीमार व्यक्तियों के ईलाज हेतु 233 लाभुकों को 22 लाख 74 हजार रूपये का भुगतान किया गया है।*_ग्रामीण विकास द्वारा मनरेगा योजनांतर्गत जिले में बिरसा हरित ग्राम़ योजना के तहत कुल 2564 एकड़ भूमि पर आम बागवानी कार्यान्वित कराई जा रही है। वर्त्तमान वित्तीय वर्ष में अब तक 54322 परिवारों के द्वारा रोजगार की मांग के आलोक में कार्य उपलब्ध कराया गया है तथा उनके द्वारा 18 लाख 73 हजार मानव दिवस का सृजन अब तक किया गया है।_* प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत् वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए राज्य सरकार से 8497 नये आवास निर्माण का लक्ष्य प्राप्त है, जिसके विरूद्ध लाभुकों का चयन करते हुए निबंधन का कार्य कराया जा रहा है। बाबा साहेब भीमराव अम्बेदकर आवास योजनान्तर्गत वित्तीय वर्ष 2016-17 से 2020-21 तक इस योजनान्तर्गत 1018 लाभुकों का आवास निर्माण कार्य पूर्ण कराया जा चुका है।जिले में कक्षा 01 से 12 तक के कुल 3152 सामान्य कोटि के बच्चों को छात्रवृति से लाभान्वित किया जा रहा है। साथ ही 145 सामान्य कोटि के बच्चों को 3500/- की दर से साईकल हेतु उनके खाते में दी जा रही है। साथ ही बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु कुल 10 कस्तूरबा गांधी विद्यालय एवं 02 झारखण्ड बालिका आवासीय विद्यालय में कुल 4100 छात्राएँ नामांकित होकर पठ्न-पाठन कर रही है। प्राकृतिक आपदा के तहत मकान क्षतिग्रस्त के कुल 442 लाभुकों को 23.35 लाख रूपये, 218.7 हेक्टेयर के फसल क्षति प्रभावित 395 कृषकों को 29.83 लाख रूपये, प्राकृतिक आपदा से 33 मृत व्यक्तियों को 01 करोड़ 32 लाख रूपये एवं 4 घायल को 17 हजार रूपये एवं 211 पशुक्षति के लिए 40 लाख 4 हजार रूपये अनुग्रह राशि का भुगतान किया गया है।राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत लगभग 16 हजार नये सदस्यों का राशन कार्ड निर्गत किया गया है। 3230 आदिम जनजाति परिवारों को डाकिया योजना के तहत प्रतिमाह 35 कि0ग्रा0 खाद्यान्न घर तक पहुँचाया गया। कोरोना संकट के दौरान जिला में 59 मुख्यमंत्री दाल-भात केन्द्र के माध्यम से 7,68,141 व्यक्तियों को निःशुल्क भोजन कराया गया। विशेष केन्द्रीय सहायता योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2017-18 से 2020-21 तक अत्यन्त पिछड़े एवं संवेदनशील क्षेत्रों को चिन्हित करते हुए किसानों की आय दुगुना करने हेतु जिले में सिंचाई, स्वास्थ्य, सुरक्षा, आजीविका, पेयजलापूर्ति, प्रशिक्षण, विद्युत, कृषि एवं बेहतर सम्पर्कता हेतु पथ/पुलिया की कुल 377 योजनाओं के विरूद्ध 294 पूर्ण कर ली गयी हैं।आकांक्षी जिला योजना के तहत आवागमन के साथ-साथ पुलिस पेट्रोलिंग के लिए पथ/पुलिया, दुर्गम क्षेत्र में शुद्ध पेयजल के लिए पेयजलापूर्ति, आधुनिक शिक्षा, कृषि, पोषाहार एवं स्वावलम्बन हेतु आजीविका प्रक्षेत्र में कुल 181 योजनाओं के विरूद्ध 171 योजनाएं पूर्ण कर ली गयी हैं।  *_जिले के धार्मिक, प्राकृतिक एवं ऐतिहासिक पर्यटक स्थलों के विकास एवं पर्यटकों के सुविधा विस्तार हेतु आंजनधाम एवं बाबा टांगीनाथ धाम में सौर आधारित पेयजलापूर्ति, सार्वजनिक स्नानागार एवं शौचालय का निर्माण कराया गया है। बिरसा मुण्डा एग्रो पार्क में जिम, लेजर शो, म्यूजिकल फाउण्टेन आदि का अधिष्ठापन, ऋषिमुख पर्वत पालकोट में सामुदायिक शेड, शौचालय एवं स्नानागार आदि कार्य कराया गया है। इसके अतिरिक्त स्टेडियम में वीआईपी गैलरी एवं आकर्शक स्टेज, विभिन्न प्रखंडों के स्टेडियम का जीर्णोद्धार कराया गया है। डुमरी प्रखण्ड अंर्तगत सिरा-सीता धाम में सम्पूर्ण सौन्दर्यीकरण कार्य, टांगीनाथधाम एवं आंजनधाम में गेस्ट हाऊस भवन निर्माण, सीढी का निर्माण, बेंच एवं लाईट परमवीर अल्बर्ट एक्का, जारी में परमवीर अल्बर्ट एक्का के प्रतीमा स्थल पर आवष्यक मरम्मति, पी0सी0सी0 पथ, पेवर ब्लॉक, पेयजलापूर्त्ति आदि कार्य, राज्यस्तरीय पर्यटक स्थल, टांगीनाथधाम तथा आंजनधाम सहित विभिन्न पर्यटन स्थलों  एवं स्टोडियम की मरम्मति एवं सुसज्जीकरण कार्य क्रियान्वित है। गुमला शहर को विकसित एवं सुसज्जित करने हेतु नगर परिषद गुमला द्वारा सभी वार्डो में पथ, पुलिया, नाली का निर्माण एवं प्रकाश की व्यवस्था दुरूस्त की गई है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत विभिन्न स्थलों पर कचड़ा उठाव के लिए कूड़ादान की व्यवस्था की गई है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कुल 971 आवास स्वीकृत किये गये हैं।_* खेल नगरी गुमला ने कई प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को राष्ट्रीय एवं अर्न्तराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई है। जिले में खेल को बढ़ावा देने हेतु 05 आवासीय, 10 डेबोर्डिंग, 02 जिम का निर्माण क्रमशः इनडोर स्टेडियम एवं स्पोर्टस हॉस्टल गुमला में कराया जा रहा है तथा एक क्रीड़ा केन्द्र संचालित है। सुमति कुमारी उरॉव द्वारा भारतीय फुटबॉल महिला टीम का हिस्सा होते हुए तुर्की में आयोजित अर्न्तराष्ट्रीय मैच में भाग लेकर जिले को गौरवान्वित किया गया है। इसी प्रकार सुमति कच्छप, रजनी केरकेट्टा, परमेश्वर उरॉव, आशीष कुजूर, अमिषा कुमारी, सुमति कुमारी, सुधा अंकिता तिर्की आदि के द्वारा राष्ट्रीय एवं अर्न्तराष्ट्रीय खेलों में भाग लेकर जिले का नाम रौशन किया है।स्वतंत्रता दिवस के इस पुनित अवसर पर अपने कर्त्तव्य के प्रति निष्ठा और समर्पण का भाव रखते हुए तमाम गुमला वासियों से भविष्य में जिले को शांत, सुशासित और समृद्ध बनाने का अपील करता हूँ ताकि यह जिला राज्य ही नहीं अपितु देश स्तर पर आदर्श जिला बने।
परमवीर अलबर्ट एक्का स्टेडियम में राष्ट्रीय झण्डोत्तोलन के पश्चात् उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक एवं उप विकास आयुक्त द्वारा संयुक्त रूप से शहीद नयमन कुजूर की पत्नी को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किय़ा गया। इसके साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना के नियंत्रण के क्षेत्र में लगातार काम करने वाले फ्रंटलाईन वर्कर, पुलिस कर्मी, मेडिकल कर्मी, सफाई कर्मी एवं पूर्ण रूप से स्वस्थ कोरोना के मरीज को मोमेंटों देकर सम्मानित किया गया।
मुख्य समारोह के अलावा गुमला जिले में उपायुक्त के आवासीय कार्यालय व आईटीडीए भवन परिसर में उपायुक्त,  पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पुलिस अधीक्षक, उप विकास आयुक्त कार्यालय में उप विकास आयुक्त, सदर अनुमंडल कार्यालय में सदर अनुमंडल पदाधिकारी, विज्ञान भवन में जिला जनसंपर्क पदाधिकारी सहित अन्य कार्यालयों में संबंधित विभाग के पदाधिकारियों द्वारा झंडोत्तोलन किया गया।
झंडोत्तोलन के पूर्व गुमला शहरी क्षेत्र में अवस्थित गाँधी स्मारक पार्क में अधिष्ठापित महात्मा गाँधी की प्रतिमा, बिरसा मुंडा एग्रो पार्क स्थित भगवान बिरसा मुण्डा की प्रतिमा, शहीद चौक, शहीद स्मारक सहित विभिन्न महापूरूषों की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण किया गया।