झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा की आकस्मिक बैठक सम्पन्न, 15 नवंबर को झारखंड बंद का निर्णय

26 अक्टूबर को मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपने का लिया गया निर्णय

ड्रा मो यासिन कासमी को मोर्चा का संरक्षक बने

झारखंड आंदोलनकारियों ने अब अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए कमर कस चुके है : राजू महतो

रांची: झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा की आकस्मिक बैठक अंजुमन इस्लामिया सभागार,रांची में हुई। बैठक में बोकारो जिला के झारखंड आंदोलनकारी राजेश टुडू व मदन गिरि के निधन पर शोक व्यक्त किया गया।
सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि 15 नवंबर 2021 को संपूर्ण झारखंड बंद किया जाएगा। 26 अक्टूबर 2021 को झारखंड आंदोलकारियों के मान सम्मान पहचान पेंशन नियोजन की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा जाएगा। बैठक में ड्रा मो यासिन कासमी को मोर्चा का संरक्षक बनाया गया। इस अवसर पर संगठन विरोधी कार्य करने वाले प्रफुल्ल ततवा व राजकमल महतो को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए राजू महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों ने अब अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए कमर कस चुके है। आंदोलकारी सड़क पर उतरकर संघर्ष ,एक उलगुलान व एक हुल करने के लिए तैयार है,आर पार की लड़ाई लड़ी जाएगी । आंदोलनकारियों के साथ अन्याय व उपेक्षा बर्दास्त नहीं किया जाएगा। सरकार आंदोलनकारियों के प्रति संवेदनशील बने।
वित्त अध्यक्ष आजम अहमद ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारी अंतिम समय अपनी- अपनी सम्मान की लड़ाई लड़ने व बदलाव
के लिए स्वयं को तैयार रखे। कार्यक्रम का संचालन प्रवक्ता पुष्कर महतो व स्वागत भाषण जिला अध्यक्ष कूमोद कुमार वर्मा ने किए।
बैठक में मोर्चा के सचिव किशोर किस्कू,ड्रा यासीन कासमी, गोपाल रवानी,सीमा देवी,आनंद मोहन तिवारी, सर्जन हांसदा,विनीता खलखो,शम्स कमर लड्डन,मी इजरायल खालिक,दिवाकर साहू,सतेंद्र कुमार महतो,रामरतन कुमार मेहता,मुद्रिका सिंह,ध्रुव नारायण पासवान,हाफ़िज़ अंसारी,साबिर अंसारी,सफिक अंसारी,जयंत कुमार महतो,गिरजा देवी,बैजनाथ महतो, निरंजन प्रसाद,हाफ़िज़ जावेद सहित राज्य के विभिन्न जिलों से आंदोलनकारी उपस्थित हुए।