17 सूत्री मांगों को लेकर ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन ने डीआरएम ऑफिस के समीप किया धरना प्रदर्शन

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: 17 सूत्री मांगों को लेकर ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन मंगलवार को चक्रधरपुर रेल मंडल मुख्यालय के समीप धरना प्रदर्शन किया।
धरना प्रदर्शन के दौरान रेल कर्मियों ने जोर शोर से नारेबाजी की। इस दौरान मांग करते हुए रेल कर्मियों ने कहा कि रेलवे और सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों का निजीकरण बंद करो, 15 स्पोर्ट्स स्टेडियम आरएलडीए को ना सौंपे, ट्रेनों की वित्तीय बोली अनुसूचित रद्द करें, रात्रि ड्यूटी एलाउंस से सीलिंग लिमिट हटाए, क्रू बीट के विस्तार के सभी आदेशों को रद्द करें, सुरक्षा निदेशालय के 14 जून 2021 के आदेशों का पालन करें, क्रैक माल के नाम पर मुख्यालय क्रू चेंजिंग स्टेशनों का बाय पासिंग बंद करें, नॉन स्टॉप माल गाड़ियों के चालक दल को 5 से 6 घंटे में राहत दें, वे बिना किसी आराम या विश्राम के अत्यधिक गहन प्रकृति का कार्य कर बिना रोगी उपचार के 77 डिवीजनल अस्पतालों, सबडिवीजनल अस्पतालों को बंद करना बंद करें, मालगाड़ी ट्रैफिक के बढ़ोतरी के कारण35 प्रतिशत अतिरिक्त एलपीजी पोस्ट स्वीकृत करें, सभी रिक्तियों को भरें, यात्री सेवाओं की बहाली होने की वजह से एएलपी प्रशिक्षण में तेजी लायें, 15 हाई पावर कमिटी की सिफारिश के अनुसार रनिंग स्टाफ के ड्यूटी के घंटे घटाकर 8 घंटे किये जाएं, लाइन बॉक्स वापस लेना बंद करें, रनिंग रुम की सुविधाओं में सुधार करें, कोविड-19 से होने वाले मृत्यु में 50 लाख रुपये मुआवजे का भुगतान करें और कोविड पीड़ितों के बच्चों को पेंशन लाभ और अनुकंपा नियुक्तियों के भुगतान में तेजी लायें, 50,000,00 रुपये का बीमा कवरेज बढ़ाएं, सुरक्षात्मक उपकरणों की मुफ्त आपूर्ति सुनिश्चित करें, समस्त रनिंग स्टाफ को शीघ्र टीकाकृत करें, कोरोना वायरस की तीसरी लहर से लड़ने के लिए कोविड अस्पताल स्थापित करें, ईओटीटी के साथ बिना गार्ड, बिना ब्रेकवान, बिना बीपीसी आदि साथ काम करने वाली असुरक्षित ट्रेन ऑपरेशन को बंद करें, एचआरएमएस के परेशानी मुक्त होने तक पेपर पास बहाल करें, ट्रेन में प्रवेश करने के लिए ई-पास को यात्रा प्राधिकार के रुप में मानें, रनिंग अलाउंस रेट को 172 से बढ़कर 530 रुपए की सीमा 10000 से बढ़ाकर 32000 प्रति माह करें,
एनपीएस को खत्म करें और 01.01.2004 के बाद नियुक्त किए गए सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम में शामिल करें आदि मांगे शामिल है। मौके पर काफी संख्या में रेल कर्मचारी मौजूद थे।