चक्रधरपुर: कलश स्थापना के साथ मां दुर्गा की पूजा अर्चना शुरू

रामगोपाल जेना
चक्रधरपूर: कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए 12 अक्टूबर मंगलवार को चक्रधरपुर शहर के पुरानीबस्ती स्थित संजय नदी छठ घाट, थाना घाट, बालिया घाट में बनमालीपुर नदी घाट से पूजा पंडालों द्वारा विधिवत मंत्र उच्चारण कर कलश उठाई गई।विधायक सूखराम उनकी धर्म पत्नी नवमी समेत 21 भक्तों ने कलश यात्रा में शामिल हुए गाजे- बाजे के साथ कलश को लेकर पूजा समिति के सदस्यों द्वारा पंडालों में स्थापित की गई। जिसके बाद पंडालों में कलश स्थापित कर मां दुर्गा की पूजा अर्चना शुरू हुई। मंगलवार की सुबह पारंपारिक गाजे- बाजे के साथ शहर के तमाम पूजा पंडाल के सदस्य केला वृक्ष, कलश, पारंपारिक तलवार लेकर नदी तट पहुंचे। जहां पुजारियों द्वारा विधिवत पूजा अर्चना कर कलश उठाया गया और पंडालों में स्थापित की गई। पूजा के दौरान पुजारियों द्वारा मंत्र उच्चारण से आसपास का माहौल भक्तिमय हो गया।

रानी रसाल मंजरी दुर्गा पूजा समिति मना रही है रजत जयंती

रानी रसाल मंजरी दुर्गा पूजा समिति इस वर्ष रजत जयंती मना रही है। जिसको लेकर समिति की ओर से ड्रेस कोड लागू करते हुए थाना नदी घाट से कलश यात्रा निकाली और अनुमंडल अस्पताल समीप स्थित पूजा पंडाल में स्थापित कर पूजा अर्चना शुरू की। इस संबंध में जानकारी देते हुए समिति के सचिव दिलीप कुमार महतो ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए इस बार 25वां साल मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूजा के सभी संस्थापक सदस्यों को इस वर्ष सम्मानित किया जाएगा। 25 वर्ष पूरा होने के अवसर पर समिति द्वारा कई कार्यक्रमों काकार्यक्रमों का आयोजन करना था। परंतु कोरोना महामारी को देखते हुए हैं सभी कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया गया।