मुख्यमंत्री ने करोड़ों रुपए की योजनाओं का किया शिलान्यास एवं उद्घाटन

– विभिन्न योजनाओं के तहत 650 लाख रुपये की परिसंपत्ति लाभुकों के बीच वितरित

गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट

गोड्डा: जिले के सुदूरवर्ती बोआरीजोर प्रखंड अंतर्गत राजाभीठा स्टेडियम में सोमवार को मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने करोड़ों रुपए की विकास योजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया। विभिन्न योजनाओं के तहत लाभुकों के बीच परिसंपत्तियों का वितरण किया गया। नवनियुक्त प्रधानों को प्रधानी पट्टा दिया गया।
इस मौके पर मुख्यमंत्री श्री सोरेन ने कहा कि वैश्विक महामारी के दौरान भी जीवन को सामान्य बनाने की प्रक्रिया आगे बढ़ रही है। इस दौरान आज हम लोग राजाभीठा के मैदान में एकत्रित हुए हैं। आज कई लोगों को कई योजनाओं से जोड़ा गया, कई लोगों को राशन कार्ड, प्रधानी पट्टा,केसीसी अन्य योजनाएं दी गई। करोड़ों रुपये की जनहित योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन हुआ है, जिससे जनसामान्य की समस्यायों के निराकरण में सहयोग प्राप्त होगा। राजाभीठा जो बहुत ही दुर्गम इलाका है ,यहां पर बिजली व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त हो ,इसके लिए यहां पावर सबस्टेशन का भी उद्घाटन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विधवा पेंशन के लिए राशन कार्ड आदि की आवश्यकता नहीं रहेगी। जो विधवा असहाय हैं, उनको सरकार द्वारा पेंशन उपलब्ध करायी जाएगी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा जिले में 3458.17 लाख रुपये से संचालित विभिन्न योजनाओं का उद्धघाटन एवं 2618.49 लाख रुपये की लागत से संचालित होने वाली विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया गया। मुख्यमंत्री ने अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति पत्र का वितरण, प्रधानी पट्टा का वितरण, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभुकों को घर की चाभी एवं स्वीकृति पत्र का वितरण भी किया। कार्यक्रम में फूलो झानों योजना के लाभुकों के बीच चेक का वितरण किया गया। कार्यक्रम में सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत लाभुकों के बीच 650 लाख रुपये की परिसंपत्ति वितरित की गई।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत ही दुर्गम क्षेत्र होने के कारण यहां बिजली की समस्या रहती थी। बिजली व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिए यहां पावर सब स्टेशन का भी उद्घाटन किया गया है। उन्होंने कहा कि सुंदर डैम को लेकर हमेशा चर्चा की जाती है कि इसके आसपास के गांवों में कैसे खुशहाली आए, इसके लिए सरकार प्रयासरत है। विस्थापित गांव में लिफ्ट इरिगेशन के तहत सिंचाई योजना का भी शिलान्यास किया गया है । 10 स्कूल भवनों का निर्माण किया जा रहा है। स्वास्थ्य सेवा के लिए आठ एंबुलेंस जिला स्तर पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। सरकार मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना, फूलों झानों योजना आदि से लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए कृतसंकल्पित है।
सरकार मुख्यमंत्री पशुधन योजना का लाभ दे रही है, जिससे ग्रामीण बकरी पालन, गाय पालन, सूअर पालन आदि कर खुद को स्वावलंबी बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार स्कूली बच्चों को हफ्ते में 6 दिन अंडा देने का काम कर रही है। इसके लिए निकटवर्ती राज्य से अंडा खरीदना होता है। यदि ग्रामीण मुर्गी पालन करें, तो उनसे सरकार अंडा खरीद लेगी। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार महुआ हड़िया बेचने वाली महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए फूलों झानों योजना के तहत लोन उपलब्ध करा रही है, जिससे वे एक सम्मानजनक व्यवसाय कर इस दलदल से बाहर निकलने का काम कर सकती हैं ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष को सरकार नियुक्ति वर्ष के रूप में मना रही है। विभिन्न विभागों द्वारा नियमावली तैयार की जा रही है, जिससे जल्द से जल्द सभी विभागों में रिक्त पद भरे जा सकेंगे। साथ ही रोजगार के नए अवसर से लोगों को जोड़ा जा सकेगा। उन्होंने कहा कि आप सब को भी जागरूक रहना होगा। सरकार आपके हित के लिए कई तरह के नियम बना रही है, जिसका फायदा आप सजग रह कर उठा सकते हैं। मौके पर राजमहल के सांसद विजय हांसदा भी उपस्थित थे।
मंच का संचालन जिला पंचायती राज पदाधिकारी श्रीमती जेसी विनीता केरकेट्टा के द्वारा किया गया। उपायुक्त ने स्वागत भाषण दिया।
इस मौके पर पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश, सिविल सर्जन डॉ मंटू टेकरीवाल, अपर समाहर्ता जुल्फिकार अली, अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा ऋतुराज, अनुमंडल पदाधिकारी महागामा जीतेन्द्र कुमार देव, जिला नजारत उपसमाहर्ता मनोज कुमार , अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी गोड्डा आनंद मोहन सिंह, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी महागामा, विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी, विधि शाखा प्रभारी, जिला सूचना जनसंपर्क पदाधिकारी श्री अभय कुमार, जिला खेल पदाधिकारी आदि मौजूद थे।