चिरेका ने अप्रैल में किया 21 रेलइंजन का उत्पादन

मिहिजाम से मिथिलेश निराला की रिपोर्ट

मिहिजाम: सर्वाधिक रेलइंजन उत्पादन क्षेत्र में विश्व में सर्वश्रेष्ठ भारतीय रेल की सहायक इकाई चित्तरंजन रेलइंजन कारखाना (चिरेका) ने रेलइंजन निर्माण कार्य क्षमता की गतिशीलता को कायम रखते हुए वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021 – 22 का प्रथम महिना में 21 रेल इंजनों का उत्पादन किया है। कोविड 19 की दूसरी लहर की संकटों के बावजूद चिरेका ने 30 अप्रैल 2021 तक 21 रेल इंजनों का सफल उत्पादन किया है। चिरेका ने वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021-22 मेँ उत्पादित 21वें रेलइंजन के निर्माण के दौरान कोविड 19 के तमाम सतर्कता और सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए रेल इंजन उत्पादन की वृद्धि गति को स्थिरता के साथ बनाए रखा है। चिरेका की कार्य कुशल टीम द्वारा उचित प्रबंधन और योजनाबद्ध कार्य शैली के सहयोग से नए वित्तीय वर्ष की बेहतरीन शुरुआत की गई है। जो वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए भी शुभ संकेत है।
ज्ञातव्य हो कि रेल इंजन उत्पादन की रफ़्तार को बनाए रखने के पीछे सतीश कुमार कश्यप, महाप्रबंधक चिरेका की कार्य योजना, प्रेरणा शक्ति एवं कुशल नेतृत्व का बहुमूल्य योगदान है। यह आशा है कि चिरेका इस मौजूदा वित्तीय वर्ष 2021-22 में फिर से अपने लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम होगा।