श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुबन मिशन का क्लस्टर स्तरीय जन सुनवाई सम्पन्न

कई योजनाओं में पाई गई भारी अनियमितता, एसडीओ ने दिए सख्त निर्देश

बरही से बिपिन बिहारी पाण्डेय

बरही: बरही टाउन हॉल में श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुबन मिशन का क्लस्टर स्तरीय जनसुनवाई का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन एसडीओ पूनम कुजूर, सीओ अरविंद देवासीष टोप्पो, रुबन मिशन राज्य प्रतिनिधि अभिषेक कुमार, राज्य समन्वयक सोशल ऑडिट झारखंड के गुरजीत सिंह, सपोर्ट भवानी गुप्ता, जिप सदस्य मंजू देवी, संतोष रविदास, सांसद प्रतिनिधि गणेश यादव ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एसडीओ पूनम कुजूर ने किया। मौके पर बारी बारी से सोशल ऑडिट की जानकारी ली गई। सोशल ऑडिट यूनिट हजारीबाग के डीआरपी रविंद्र सिंह मुंडा ने बताया कि पूरे झारखंड में पहला कलस्टर गोरियाकरमा की जनसुनवाई चल रही है। जिसमें 27 सितंबर से सोशल ऑडिट का कार्य शुरू किया गया। जिसमें रूबन मिशन के तहत किए गए कार्यों का निरीक्षण किया गया, वही भौतिक सत्यापन भी किया गया। वही लाभार्थियों से मिलकर पता किया गया कि जो लाभ उनको मिलना था वह मिला कि नहीं, योजनाएं धरातल पर है कि नहीं है, योजना ग्राम सभा से आई कि नहीं, योजनाओं का चयन ग्राम सभा में हुआ कि नहीं, पंचायत प्रतिनिधियों की जानकारी है या नहीं। 27 तारीख को एंट्री मीटिंग होने के बाद 28 तारीख से हमारी टीम लग गई और 5 तारीख तक पूरे फील्ड में भ्रमण किया। इस दौरान जो भी अनियमितता थी या जो भी मुद्दे थे उसे निकाला गया और उसका प्रतिवेदन बनाकर छः पंचायत के 26 गांव में ग्रामसभा करके गांव के लोगो को योजना के बारे में बताया गया, और संपुष्टि करवाया गया। 7 तारीख को ग्राम सभा संपुष्टि होने के बाद आज श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुबन मिशन का क्लस्टर स्तरीय जन सुनवाई हो रही है। वहीं उन्होंने बताया कि इस दौरान कई जगह अनियमितता निकल कर आई है। पॉलीहाउस में महिला समूह को लाभुक समूह बनाया गया था, और पूरे समूह को ट्रेनिंग देने की बात थी ताकि योजना का सही लाभ उठाया जा सके। जेएसपीएल के तरफ से 26 पॉलीहाउस थे लेकिन उन्होंने 26 समूहों को ट्रेनिंग ना देकर के एक-एक महिलाओं को ट्रेनिंग दिया, जिससे महिला समूह इसका फायदा नहीं उठा पाए। जिला परिषद योजनाओं में मैरिज हॉल, कंपलेक्स हॉल बनाया गया है। जिसमें कई तरह की अनियमितता देखने को मिली। स्ट्रक्चर जो समय पर बनना था वह पूरा नहीं हुआ है। जो बना भी है वह गुणवत्ता पूर्वक नहीं है, डॉक्यूमेंट मैं भी अनियमितता पाई गई है, जिसके कारण हम लोग को ऑडिट करने में दिक्कत हो रही है। योजना में पार्ट है एक सिविल पार्ट, दूसरा उपकरण खरीदने का। कुछ सिविल वाला पार्ट तो हो गया, लेकिन उपकरण में भारी अनियमितता बरती गई है। वहीं उन्होंने बताया कि योजनाओं को ग्राम सभा के माध्यम से व पंचायत के जनप्रतिनिधियों को बता कर लेना था, लेकिन गई जनप्रतिनिधि ने कहा कि योजनाओं के बारे में हमें मालूम भी नहीं है, कोई ग्रामसभा भी नहीं किया गया है। हालांकि फंड के अभाव के कारण भी कार्यों में बाधित हो रही है। वही संवेदको का कहना है कि फंड सही समय पर नहीं मिल पा रहा है, जिसके कारण कार्य हम लोग पूरा नहीं कर पा रहे हैं। वही जूरी मेंबर में उपस्थित एसडीओ ने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि जिन जिन योजनाओं में अनियमितता पाई गई है, उसका निराकरण जल्द करें। वही बेन्दगी पंचायत के पंचायत सेवक को अनियमितता पाए जाने पर शो कॉज किया गया और स्पष्टीकरण मांगा गया। मौके पर मुखिया मनोज कुमार, हरेंद्र गोप, प्रतिनिधि दिनेश साहू, संतोष कुमार, प्रभु भुईया, विधायक प्रतिनिधि मो तौकीर रजा, समाजसेवी पप्पू चंद्रवंशी, संवेदक अर्मेन्द्र यादव, दिनेश साहू, पंकज कुमार आदि शामिल थे।