डीसी ने मासिक सड़क सुरक्षा में अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश

गुमला: उपायुक्त  शिशिर कुमार सिन्हा के निर्देशानुसार जिला परिवहन पदाधिकारी विजय सिंह बिरूआ ने आईटीडीए भवन के सभागार में जिला सड़क सुरक्षा समिति की मासिक बैठक कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

जिला परिवहन पदाधिकारी ने सर्वप्रथम पथ प्रमंडल को चिन्हित वलनरेबल पथों पर सड़क दुर्घटनाओं को कम करने हेतु सड़क पर बने गड्ढे को भरने, गति नियंत्रक साईनेज, रंबल स्ट्रिप आदि अधिष्ठापित कराने का निर्देश दिया। वहीं राष्ट्रीय उच्च पथ प्रमंडल को रंबल स्ट्रिप का रंगरोगन करने तथा गड्ढों को भरने का निर्दश दिया। साथ ही गुमला-जशपुर रोड, घाघरा-गुमला सड़क एवं गुमला-पालकोट सड़क पर साईनेज बोर्ड, आपातकालीन नंबर, गति अवरोधक बोर्ड आदि लगवाने का निर्देश दिया।

बैठक में जिला परिवहन पदाधिकारी ने उत्पाद विभाग को ड्रिंक एंड ड्राईव के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से सड़क किनारे अवस्थित लाइन होटलों का औचक निरीक्षण कर अवैध रूप से बिक्री/ सेवन किए जाने वाले शराब पर रोक लगाने का निर्देश दिया।

जिला परिवहन पदाधिकारी ने शिक्षा विभाग को सभी स्कूलों के विद्यार्थियों को सड़क सुरक्षा के मानकों की जानकारी उपलब्ध कराने पर विशेष जोर दिया। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों द्वारा सड़क सुरक्षा के नियमों का उल्लंघन करते हुए रैश ड्राइविंग तथा उससे होने वाले दुर्घटनाओं के रोकथाम के उद्देश्य से स्कूलों में होने वाले पीटी मीटिंग के दौरान विद्यार्थियों सहित उनके अभिभावकों से विद्यार्थियों को बिना हेल्मेट एवं बिना लाइसेंस के दो पहिया वाहन न चलाने संबंधित जानकारी साझा करने का निर्देश दिया। उन्होंने विद्यार्थियों को हेल्मेट एवं लाईसेंस की विशेषता भी साझा करने का निर्देश दिया। साथ ही बिना हेल्मेट एवं बिना लाइसेंस के दो पहिया वाहन चलाते हुए पकड़े जाने पर संबंधित विद्यार्थी के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया।

जिला परिवहन पदाधिकारी ने सहायक खनन पदाधिकारी द्वारा बालू का परिचालन करने वाले ट्रैक्टर/ ट्रक की सघन जाँच अभियान चलाने का निर्देश दिया। विशेषकर उन्होंने मरदा नदी के समीप भी सघन जाँच अभियान चलाकर अवैध बालू परिचालन एवं उठाव पर अपनी पैनी नजर रखने का निर्देश दिया।

बैठक में डी.टी.ओ न सिविल सर्जन को गुड समैरिटन मार्गदर्शिका तथा हिट एंड रन संबंधी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर फ्लेक्स अधिष्ठापित करवाने, नेत्र चिकित्सीय जाँच, ब्लड प्रेशर जाँच हेतु शिविर का आयोजन करने तथा फर्स्ट-एड किट का सभी ऑटो/ बस चालकों के बीच वितरण सुनिश्चित करने पर जोर दिया।

बैठक में जिला परिवहन पदाधिकारी ने सभी संबंधित विभागों को दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए अनुपालन प्रतिवेदन ससमय जिला परिवहन कार्यालय में समर्पित करने का निर्देश दिया।

जिला परिवहन पदाधिकारी ने वर्ष 2020-21 के जनवरी एवं फरवरी माह में हुए सड़क दुर्घटनाओं एवं उन दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों का तुल्नात्मक आंकड़ा प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि अधिकतम सड़क दुर्घटनाएं दो पहिया वाहनों के ओवरस्पीडिंग/ ओवरलोडिंग तथा रैश ड्राइविंग के कारण हुई हैं। आंकड़ों में पाया गया कि विगत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष जनवरी माह में 20 सड़क दुर्घटनाओं में 18 लोगों की मृत्यु हुई। जबकि फरवरी माह में 25 सड़क दुर्घटनाओं में 23 लोगों की मृत्यु हुई। इस तरह से इस वर्ष जनवरी एवं फरवरी माह में कुल 45 सड़क दुर्घटनाओं में 41 लोगों की मृत्यु हुई। इसके अलावा उन्होंने विगत 2018-29-20 में चिन्हित ब्लैक स्पॉट की जानकारी साझा करते हुए बताया कि जिलांतर्गत कुल 05 ब्लैक स्पॉट चिन्हित हैं। जिसमें बसिया प्रखंडांतर्गत कोनबीर चौक के समीप एस.एच-03, रायडीह प्रखंडांतर्गत सिलम के जोड़ाजाम के समीप एन.एच-43, सदर प्रखंडांतर्गत करमडीपा कर्व रोड, पेट्रोल पंप के समीप एन.एच-43, देवडीह पतराटोली के एन.एच-143ए तथा बिशुनपुर प्रखंडांतर्गत बिशुनपुर-नेतरहाट रोड, चटकपुर ग्राम के समीप शाज रोड शामिल है।

उपस्थिति
बैठक में सिविल सर्जन डॉ. विजया भेंगरा, जिला परिवहन पदाधिकारी विजय सिंह बिरूआ, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी देवेंद्रनाथ भादुड़ी, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, सहायक खनन पदाधिकारी रामनाथ राय, कार्यपालक अभियंता आऱ.सी.डी, उप प्रबंधक एन.एच.ए.आई. नवनीत नौटियाल, सदर अनुमंडल पदाधिकारी के प्रतिनिधि, शिक्षा विभाग के प्रतिनिधि, सड़क सुरक्षा सेल के आईटी सहायक मंटू रवानी, तकनीकि सहायक प्रणय कांशी व अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *