डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने पार्टी बनाकर देश को दूसरा विकल्प दिया: श्यामनारायण दुबे

मेदिनीनगरः  भाजपा जिला कार्यालय पलामू में भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की 120वी जयंती मनाई गई। इस अवसर पर डॉ. मुखर्जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।इस आयोजन की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष विजय नन्द पाठक ने की और संचालन सुरेंद्र विश्वकर्मा ने किया।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित भाजपा के जनसंघ काल के भाजपा के वरिष्ठ नेता श्याम नारायण दुबे ने कहा कि डॉ. मुखर्जी ने पार्टी बनाकर देश को दूसरा विकल्प दिया।डॉ. मुखर्जी ने राष्ट्रीय एकता और अखंडता के लिए ही अपने प्राणों का बलिदान दिया। ‘एक देश में दो विधान, दो निशान, दो प्रधान नहीं चलेंगे’ के उनके नारे ने देश के राष्ट्रवादियों के हृदय, मन-मस्तिष्क और आत्मा पर अमिट छाप छोड़ी।
मौके पर जिलाध्यक्ष विजय नन्द पाठक ने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने ही सबसे पहले कश्मीर में धारा 370 की समाप्ति के लिए आमरण अनशन की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि डॉ. मुखर्जी ने राष्ट्रहित में अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया। उनके बलिदान के परिणाम स्वरूप ही कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है।डॉ. मुखर्जी के संघर्ष का ही परिणाम था कि पंजाब और बंगाल का आधा हिस्सा भारत का अभिन्न अंग बना रहा।कार्यक्रम में मुख्य रूप से पार्टी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रेम सिंह,नरेंद्र पांडे,अविनाश वर्मा, डिप्टी मेयर मंगल सिंह,धर्मेंद्र उपाध्याय,उदय शुक्ला,लवली गुप्ता,धीरेंद्र दुबे एवं मंजू गुप्ता,संटू सिंह,अजय सिंह,राकेश तिवारी,छोटु सिन्हा,सोमेश सिंह,सुधीर पांडेय,रोहित शर्मा, दीपक सिंह समेत कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।