लिखित आश्वासन पर किसानों का अनशन समाप्त, डीएसओ ने कहा केंद्र के बाहर रखा धान एफसीआई का

एसएमएस के आधार पर भुगतान नही करने पर होगी कार्रवाई
मयूरहंड(चतरा)। चार जून से एफसीआई के खिलाफ किसानों का मयूरहंड प्रखंड कार्यालय परिसर में जारी आमरण अनशन पांच जून के रात्रि उपायुक्त दिव्यांशु झा के निर्देश पर डीएसओ अनील कुमार यादव द्वारा लिखित आश्वासन देने के बाद समाप्त हो गया। डीएसओ ने 15 सूत्री मांगों को लेकर अनशन पर बैठे किसान सुभाष कुमार सिंह व नवल किशोर सिंह को गुलकोज पिलाकर अनशन तुड़वाया। ज्ञात हो कि 4 जून से आमरण अनशन पर बैठे किसानों से वार्ता करने डीसी के आदेश पर डीएसओ मयूरहंड पहुंचकर वार्ता की, पर सभी लिखित आश्वासन पर अड़े रहे और वार्ता विफल हो गया था। इसके उपरांत पांच मई के देर शम उपायुक्त ने पुनः डीएसओ मयूरहंड पहुंचकर आंदोलित किसानों से वार्ता कर लिखित आश्वासन दिया की धान अधिप्राप्ति केंद्र के बाहर 30 मार्च के अंदर एसएमएस मिलने के उपरांत किसानों द्वारा पहुंचाया गया धान एफसीआई का है। इस लिए पानी में से जो भी धान बरबाद हुए है वह किसानों का नही एफसीआई का है। एसएमएस के आधार पर भुगतान नही करने पर संबंधित विभाग के विरुद्ध कार्रवाई की अनुशंसा करने का आश्वासन भी दिया गया। साथ ही परिसर में रखे किसानों धान मूल्यांकन के लिए कमिटी गठित की गई। जिसमें अनशनकारी किसान सुभाष कुमार सिंह व मालेश्वर सिंह के साथ बीडीओ शामिल हैं। जिसकी लिखित कॉपी डीएसओ ने अनशनकारियों को दिया। इसके अलावा समय सीमा बढ़ाने को लेकर विभाग को लिखा गया पत्र, एसएमएस प्राप्त किसानों की सूची एवं एफसीआई द्वारा कुल धान अधिप्राप्ति की सूची किसानों को सौंपी गई। साथ हीं डीएसओ ने सौ क्विंटल से ज्यादा धान देने वाले 31 किसानों को चिन्हित कर जांच करने के बाद दोषी पाए जाने पर कार्रवाई करने के अलावा धान उठाव में मनमानी करने वाले एफसीआई कर्मी बिपिन सिंह के खिलाफ जांच कराने का आश्वासन किसानों को दिया। जिसके बाद किसन सहमत हुए और आंदोलन को स्थगित करते हुए अनशन तोड़ा और उपायुक्त व डीएसओ के प्रति अभार जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *