मां का आभूषण सार्वजनिक है, इस पर किसी का हक नहीं है: कमलदेव गिरी

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: विजयादशमी शुक्रवार की दोपहर शहर के श्याम नारायण शौण्डिक धर्मशाला चांदमारी में देवी मां की आभूषणों को लेकर दो कमेटियों में हुए विवाद पर शनिवार की शाम नये कमेटी के पदाधिकारियों प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से अपना पक्ष रखा। नये कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मण राम रवि, सचिव कमल देवगिरी व सदस्य गौतम राम रवि ने संयुक्त रुप से कहा कि हमारे उपर पुराने कमेटी द्वारा लगत आरोप लगाया गया है। नये कमेटी ने पिछले चार सालों में धर्मशाला को ठीक करने को लेकर काफी काम किया है, जो सभी को नजर भी आता है। लाखों रुपए खर्च कर टूटते धर्मशाला को बचाया है। सेवाभाव से कार्य करने के बावजूद हमें बदनामी मिला है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला को ट्रस्ट चलाता था। जब तक ट्रस्ट का निर्माण नहीं होता है, उसका देखभाल करता रहूंगा। उन्होंने कहा कि हमारे उपर मां की आभूषणों की चोरी, छीनताई का आरोप लगाया है। जबकि चक्रधरपुर थाना पुलिस पुराने कमेटी के सदस्यों की घरों से आभूषणों को जब्त किया है। उन्होंने कहा कि विजयादशमी के दिन नए कमेटी के सदस्य धर्मशाला में बैठक कर रहा था। इस दौरान कमेटी के सदस्य प्रताप मिस्त्री द्वारा मां दुर्गा के आभूषण व बर्तन को उतार कर मिलान करते हुए सूची तैयार की जा रही थी। मिलान के बाद प्रताप मिस्त्री ने कहा कि यह आभूषण अशोक मामा के यहां से आया हूं और उन्हें पुन: सौंप देना चाहता हूं। तभी नए कमेटी ने आभूषण नए कमेटी को सौंप देने की बात कही। उन्हें कहा कि नए कमेटी तय करेगी कि मां का आभूषण और बर्तन कहां रहेगा। सचिव कमल ने बताया कि कमेटी का निर्णय था कि मां का आभूषण धर्मशाला अथवा स्टेट बैंक के लॉकर में रखा जाएगा। क्योंकि मां का आभूषण सार्वजनिक है, इस पर किसी का हक नहीं है। इसी बात को लेकर नए कमेटी एवं पुरानी कमेटी के सदस्यों के साथ बहस शुरु हो गई। इस क्रम में पुराने कमेटी के पदाधिकारी उमेश गुप्ता के द्वारा जबरन आगे बढ़ कर मां का आभूषण लूटने का काम किया गया। जिसका विरोध हुआ। विरोध करने के दौरान दोनों में धक्का-मुक्की हो गई। इसी बात पर चांदमारी निवासी गौतम साव ने मेरे पीछे कॉलर पकड़कर टान खींच करने लगा। टानने के क्रम में उनका पैर फंस गया और जमीन पर गिर पड़ा। धर्मशाला के पीलर में उनको चोटे लगा। वहीं मुझे भी चोटे आई। गिरने के बाद दोनों में झड़प हुई और वाद-विवाद आगे बढ़ा। वहीं उमेश गुप्ता के द्वारा मारपीट किया गया। कमेटी का तीन कुर्सी को तोड़ दिया गया। दान पेटी में रखें करीब 26 सौ रुपए नहीं था। लेकिन बाद में बरामद कर लिया गया। लेकिन मां दुर्गा का आभूषण को झपट्टा मारकर लेकर भागने लगे। इस बीच नए कमेटी के सदस्यों ने पकड़ने का प्रयास किए। इस दौरान पुरानी कमेटी के सदस्यों ने नए कमेटी के सदस्य गौतम राम रवि के साथ मारपीट करने लगे। जिसके बाद पुरानी कमेटी के सदस्य उमेश गुप्ता, विजय साव, पप्पू साव, महेश गुप्ता, गौतम साव, प्रताप मिस्त्री मां का आभूषण लेकर भाग खड़े हुए। जिसके बाद काफी शोर मचाया गया।

जिसके बाद चक्रधरपुर थाना प्रभारी प्रवीण कुमार को सूचना दी जाती है। थाना प्रभारी स्वयं उमेश गुप्ता के आवास से मां की सारी आभूषण को बरामद करते हैं। जो अभी थाना के कस्टडी में है। वहीं नए कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मण राम रवि व सदस्य गौतम राम रवि को पुरानी कमेटी के सदस्यों ने दी जाति सूचक गाली देकर दलितों का अपमान किया है। पुरानी कमेटी के सदस्यों के ऊपर कानूनी कार्रवाई के लिए नए कमेटी के सदस्यों ने मांग की है।
इधर, नए कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मण राम रवि ने पुरानी कमेटी के सदस्य गौतम साव, विजय साव, उमेश गुप्ता, महेश गुप्ता आदि के उपर चक्रधरपुर थाना में लिखित शिकायत कर कार्रवाई करने की मांग की है।