पोसैता में ड्यूटी कर रहे ट्रैकमैन की हत्या, सुबह पटरी किनारे मिला शव

धारदार हथियार से गला गोद कर हत्या की गई है, मनोहरपुर में रेल क्वार्डर में रहता था उमेश कच्छप.
रामगोपाल जेना
चक्रधरपूर: पश्चिमी सिंहभूम जिला के मनोहरपुर थाना क्षेत्र के पोसैता रेलवे स्टेशन के पास बीती रात एक रेलकर्मी की निर्मम हत्या कर दी गई. मृतक रेलकर्मी पोसैता का रहने वाला उमेश कच्छप है. यह रेलवे में ट्रैकमैन के पद पर कार्यरत है, जो मनोहरपुर में रेल क्वार्टर में रहता था. मंगलवार की शाम वह अपने परिवार से ड्यूटी जाने की बात बोलकर क्वार्टर से निकला. दूसरे दिन बुधवार की सुबह उमेश का शव पोसैता स्टेशन के पास रेल लाइन किनारे पड़ा मिला

धारदार हथियार से गले पर किया गया वार

इधर घटना की सूचना मिलते ही मनोहरपुर थाना पुलिस ने बुधवार को घटनास्थल पहुंचकर शव बरामद कर पोस्टमार्टम हेतु चक्रधरपुर भेज दिया. पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है. उमेश कच्छप की हत्या में धारदार गुप्ती किस्म के हथियार उपयोग किये जाने की आशंका जतायी जा रही है. क्यांेकि मृतक के गला पर धारदार हथियार घोंपे जाने के जख्म हैं. पुलिस को अबतक हत्यारे या हत्या के कारण का पता नहीं चल पाया है. पुलिस सभी बिन्दुओ से पड़ताल कर रही है.

हत्या कहीं और कर शव पटरी किनारे फेंका

मामले में प्राप्त जानकारी के अनुसार उमेश कच्छप मंगलवार को शाम सारंडा डीएमयू ट्रेन संख्या 68026 डाउन ट्रेन से मनोहरपुर से पोसैता ड्यूटी के लिए निकला था. देर शाम लगभग 7.30 बजे उमेश को उसके सहयोगी रेलकर्मी के साथ पोसैता रेल स्टेशन पर देखा गया था. सुबह लगभग 7.30 बजे पोसैता रेल स्टेशन व पोसैता रेल फाटक के बीच रेल पोल संख्या पीएसटी/ 1063 के पास रेल लाइन किनारे उसका शव मिला. बताया जाता है कि उमेश ने पोसैता पहंुचकर रात में मेट के पास ड्यूटी में उपस्थिति भी दर्ज नहीं करायी थी. संभावना व्यक्त की जा रही है कि रेलकर्मी उमेश कच्छप की हत्या रात्रि 8 बजे के बाद की गई है. उसकी हत्या अन्यत्र कर रेल लाइन के किनारे शव को छोड़ दिया गया है क्योंकि शव से लगभग 20 फीट की दूरी पर स्थित पीसीसी सड़क के किनारे जगह-जगह खून के धब्बे देखे गए.