टीकाकरण को ले राष्ट्रीय स्तर वेबिनार जूम मीटिंग का आयोजन हुआ

आदिवासी हो समाज युवा महासभा, केंद्रीय कमिटी की ओर से किया गया

रामगोपाल जेना
चाईबासा मौजूदा समय में कोविड महामारी ने सभी को प्रभावित किया है, ऐसे समय में भारत के जनजाति समुदाय ने भी ग्रामीण क्षेत्र में चल रहे कोविड टीकाकरण अभियान में भ्रम, भय एवं समाधान को लेकर राष्ट्रीय स्तर बेविनार जूम मीटिंग का आयोजन आदिवासी हो समाज युवा महासभा, केंद्रीय कमिटी की ओर से किया गया l मीटिंग से पहले विभिन्न राज्यों के सभी प्रतिनिधियों ने कोरोना से हुई मृत्यु के लोगों की आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट की मौन रखी l इस बैठक को स्पष्ट उद्देश्य के साथ आयोजित किया गया, ताकि महामारी टीकाकरण के बारे में जनजातीय समाज में भी नए बदलाव, वर्तमान प्रक्रिया और प्रोटोकॉल इत्यादि विभिन्न मिथकों के साथ समझ सके । बैठक में चिकित्सा क्षेत्र के विशेषज्ञ डॉ जगन्नाथ हेंब्रम ने टीकाकरण के सभी सावधानियां और सुरक्षा के उपायों के बारे में विस्तार से जानकारी दी l इस बैठक में सामूहिक रूप से ग्रामीण क्षेत्र में फैले भ्रांतियों को दूर कर आदिवासी समाज के हर वर्ग की महिला-पुरुष एवं युवाओं को टीकाकरण सुनिश्चित हो, इस पर प्रयास करने की विशेष जानकारियाँ दी l इस बैठक में छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, असम, महाराष्ट्र, त्रिपुरा, मिजोरम,उढ़ीशा सहित झारखण्ड के विभिन्न जनजातीय समुदाय के सामाजिक संगठन के प्रतिनिधि, लेखक,कवि साहित्यकार,युवा समाज सेवी और चिकित्सक आदि आदि ने हिस्सा लिया ।कोरोना, ब्लैक फंगस, कोरोना काल में ली जाने वाली सावधानियाँ,डायबिटीज,किडनी,हृदय,टीबी,गर्भवतियाँ इत्यादि के मरीज किस तरह की सावधानियाँ बरतनी चाहिये । इस पर डॉ जगन्नाथ हेम्ब्रम ने विस्तार जानकारी दी । साथ ही सभी ने मरीज का इतिहास लेने के बाद टीकाकरण एवं टास्क टीम की मदद से निगरानी रखने की बात कही गयी और ग्रामीण क्षैत्रों में सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों को टीका की वृद्धि के प्रति सक्रिया बढ़ाने की प्रस्तावना दी । बैठक में आदिवासी हो समाज महासभा के अध्यक्ष श्री अर्जुन मुन्दूया, महासचिव यदुनाथ तियू,पूर्व महासचिव श्री मुकेश बिरूवा, शिक्षा सचिव श्री जवाहरलाल बंकिरा,
सदर अस्पताल चाईबासा से डॉ. जग्गन्नाथ हेमब्रोम
बिरसा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, राँची (रजिस्ट्रार) श्री नरेंद्र कुदादा, कॉपरेटिव लॉ कॉलेज प्रोपेसर संजीव बिरूली,युवा कवि लेखक जैसीन्ता केरकेटा,
जनजातीय फ़िल्म जगत से प्रकाश पुरती,सावन सोय,राँची से
समाजसेवी दयामानी बारला,
डॉ. गुमदा मरडी सहायक प्रधानध्यापक, हेड संताली विभाग, पंसकूड़ा, ऑटोनोमस कॉलेज, प. बंगाल,रेलवे
इंजीनियर, महाराष्ट्र मुंबई चंद्रमोहन बिरुवा,असम से
समाजसेवी सुरेंद्र सुंडी, मुम्बई से युवा समाज सेवी
सतीश चंद्र तियू युवा ,
शशिप्रभा बालमुचू, राँची
, छत्तीसगढ़ कविता नाग,त्रिपुरा रियांग बंधु,सुकमन बाघेल,दिनेश कुमार ,मिजोरम सलोम कोम्पा,वर्षा रिहाने,दिव्या रिंगपोपो आदि लोग शामिल हुये ।